झोपड़ी में सो रहे आदिवासी दंपती जिंदा जले, हादसा या हत्या की जांच में जुटी पुलिस - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, January 10, 2022

झोपड़ी में सो रहे आदिवासी दंपती जिंदा जले, हादसा या हत्या की जांच में जुटी पुलिस

 





रेवांचल टाइम्स जबलपुर। बरगी के चौरई गांव में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यहां झोपड़ी में सो रहे आदिवासी दंपत्ति की संदिग्ध परिस्थितियों में जलकर मौत हो गयी। जिनके अधजले शव आज सोमवार को खेत में बनी झोपड़ी में मिले है। जानवरों की रस्सी काटकर भगा दिया गया था। जानवर सुबह जब गांव पहुंचे तो उनकी रस्सी कटी देख परिजन खेत पहुंचे तो इसकी जानकारी हुई। झोपड़ी में किन कारणों से आग लगी है। इसका फिलहाल खुलासा नहीं हो सकता है। मामले की पड़ताल जारी है। वहीं, घटना स्थल पहुंचे विधायक संजय यादव ने निष्पक्ष जांच की मांग की है।

बरगी पुलिस ने बताया कि चौरई गांव निवासी आदिवासी दंपती सुम्मेरीलाल कुलस्ते (60) और उसकी पत्नी सिया बाई (55) खेत वाले मकान में सोते थे। यहां जानवर भी पाल रखे हैं। दोनों की सोमवार सुबह जली हालत में लाश मिली है। बेटे और बहू गांव के मकान में रहते हैं। सुबह खेत में बंधे जानवर घर पहुंचे और उनकी रस्सी कटी दिखी, तब परिजनों को संदेह हुआ। वे खेत पहुंचे तो वहां का नजारा देख सन्न रह गए। एक बेटा गजना में रहता है। वहीं एक बेटा चौरई गांव में रहता है।

हत्या या हादसा, जांच जारी
एएसपी शिवेश सिंह बघेल ने बताया कि प्रथम दृष्टया मामला हादसे का जान पड़ता है। पूरी पड़ताल के बाद ही स्थिति साफ हो सकेगी तो वहीं बताया जाता है कि दंपत्ति की झोपड़ी में आग लगाकर वारदात को अंजाम दिया गया है। फिलहाल पुलिस हर एंगल से मामले की जांच में जुटी है।

No comments:

Post a Comment