नगर पालिका बनी भ्रष्टाचार पालिका, अवैध वसूली का अड्डा, वसूली प्रभारी करवा रहा है लूट,,, - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Sunday, December 5, 2021

नगर पालिका बनी भ्रष्टाचार पालिका, अवैध वसूली का अड्डा, वसूली प्रभारी करवा रहा है लूट,,,




रेवांचल टाइम्स – अंधेर नगरी चौपट राजा टके सेर भाजी टके सेर खाजा यह कहावत नगर पालिका में सटीक बैठती है नगर पालिका नागरिकों से जुड़ी हुई सबसे अहम कड़ी होने के बाद भी राजा, प्रजा, प्रशासक, भूतपूर्व, आगामी, क्या पक्ष या विपक्ष किसी को भी नगर पालिका की कोई परवाह नजर नहीं आती।

नगर पालिका के राजस्व प्रभारी समस्त फुटकर  विक्रेता से 5 रू की जगह वसूल रहे 10 रुपए वो भी बिना रसीद के प्रभारी के कर्मचारी  चुटकी बजा कर मागते हैं पैसे।


जब हमारे संवाददाता ने वसूली करने वाले का कर्मचारी का वीडियो में स्पष्ट दिख रहा 10 रुपये लेते वसूली कर्मचारी से पूछने पर कोई जवाब नही दिया, जब उससे पूछा गया की रसीद कट्टा कहा है तो उसने सिर्फ इतना कहा की हमारे प्रभारी से बात करो।

 प्रभारी से बात करने पर जब बात की गई तो उन्होंने कहा की हम 5 रु ही वसूलते है में अभी देखता हूं ये गलत है। कहा गया कि कल से ऐसा नहीं होगा। रसीद के बारे में पूछने पर प्रभारी श्री सोनी ने बताया की दुकानदार रसीद नही लेते है लेकिन वही जब हमारे संवाददाता ने दुकानदार से पूछा तो उनके द्वारा 10 रु लेने और रसीद ना देने की बात कही।

दूसरे दिन भी वसूली के लिए वही कर्मचारी आया बिना रसीद कट्टे के और फिर 10 रु की वसूली करा ये हाल पूरे शहर का है।

फिर प्रभारी से बात हुई तो उनका वही रटा रटाया जवाब, वही बात की ऐसा नहीं होता।

वे छोटे व्यापारी जो दिन भर दुकान लगाते है 100–200 कमाते है धूप, बारीश झेलते हैं सोनी जैसे लोग उनको भी नही छोड़ते।


अब सवाल उठता है कि

1 प्रभारी के कर्मचारी लोगो से खुले आम लूट कैसे मचा सकते हैं, कही यह सब किसी की मिली भगत के कारण तो नहीं।

2 इतनी दिलेरी से चुटकी बजाकर दुकानदार से ज्यादा पैसे मगना किसी की शह के बिना तो नहीं हो सकता।


इस बारे मे जब सी एम ओ से बात करना चाहा गया तो उनकी पुरानी आदद फोन नहीं उठा वॉट्स ऐप किया गया तो कोई जवाब नहीं आया।


रेवांचल टाईम्स के साथ विनोद दुबे की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment