विधायकों के फर्जी लेटर पैड के जरिए ट्रांसफर की सिफारिश से मचा हड़कंप - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, December 30, 2021

विधायकों के फर्जी लेटर पैड के जरिए ट्रांसफर की सिफारिश से मचा हड़कंप




रेवांचल टाईम्स:सत्ताधारी बीजेपी के दो प्रभावशाली विधायकों के फर्जी लेटर पैड के जरिए ट्रांसफर की सिफारिश के खुलासे से जबलपुर में हड़कंप मचा हुआ है. दरअसल पूर्व मंत्री और बीजेपी के विधायक अजय विश्नोई और एक अन्य विधायक अशोक रोहाणी के लेटर पैड का इस्तेमाल कर जालसाजों ने फर्जी दस्तखत कर पुलिस आरक्षकों के ट्रांसफर की सिफारिश की थी.

चौंक गए सत्ताधारी विधायक
विधायकों के लेटर पैड और दस्तखत के फर्जी होने का खुलासा सिफारिशी पत्रों में असभ्य भाषा के इस्तेमाल के चलते हुआ. विधायक अजय विश्नोई के लेटर पेड पर लिखा गया यह पत्र जब अधिकारी के पास पहुंचा तो उसने विश्नोई को इसकी जानकारी दी. इसी तरह विधायक अशोक रोहाणी के नाम से लिखा पत्र उनके पिता स्वर्गीय ईश्वरदास रोहाणी (तत्कालीन विधानसभा अध्यक्ष) के लेटर पैड पर था. खुद के लेटर पैड और फर्जी दस्तखत से सिफारिश पत्र लिखने की खबर मिलते ही जबलपुर के दोनों ही सत्ताधारी विधायक चौंक उठे और उन्होंने इस तरह की जालसाजी करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की. दोनों विधायकों ने जबलपुर के एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा को जांच करके कार्रवाई के लिए कहा है.

पहले भी हो चुका है ऐसा
कहा जा रहा है कि यह पहला मौका नहीं है जब सत्ताधारी विधायकों के लेटर पैड का इस्तेमाल कर सरकारी महकमों में सिफारिश पत्र भेजे गए थे. इसके पहले भी इस तरह के कई मामले सामने आए लेकिन विधायकों के द्वारा शिकायत दर्ज न कराने के चलते न तो जांच पूरी हो पाई और न ही दोषी बेनकाब हो पाए हैं. अब एक बार फिर इस तरह का मामला सामने आने के बाद प्रशासन में जहां हड़कंप मचा हुआ है तो वहीं यह सवाल भी उठ खड़ा हुआ है कि इस तरह के सिफारिशी पत्रों पर अब तक सरकारी महकमों में कितने ट्रांसफर हो चुके हैं? बहरहाल इस मामले के खुलासे के बाद पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा ने भी अपनी तरफ से जांच भरोसा दिलाया है.



No comments:

Post a Comment