जनजाति बाहुल्य जिलों में कार्य करने संवेदनशीलता आवश्यक - हर्षिका सिंह कलेक्टर ने प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों को किया संबोधित - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, December 24, 2021

जनजाति बाहुल्य जिलों में कार्य करने संवेदनशीलता आवश्यक - हर्षिका सिंह कलेक्टर ने प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों को किया संबोधित

मण्डला 24 दिसम्बर 2021


भारतीय प्रशासनिक सेवा के 18 प्रशिक्षु आईएएस अधिकारी जिले के भ्रमण पर हैं। सभी अधिकारी 22 से 26 दिसम्बर तक जिले की जनजाति, सामाजिक, सांस्कृतिक, प्रशासनिक तथा भौगोलिक परिस्थितियों का अध्ययन करने के लिए पहुँचे हैं। कलेक्टर हर्षिका सिंह ने खटिया स्थित ईको सेंटर में प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जनजाति बाहुल्य जिले में काम करना चुनौतीपूर्ण है। साथ ही ऐसे क्षेत्र में काम करने के लिए संवेदनशीलता अत्यंत आवश्यक है। श्रीमती सिंह ने बताया कि जनजातीय लोग सरल एवं सच्चे हृदय के होते हैं। शासन के अनेक जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ देने तथा जनजातीय लोगों के समस्याओं के निराकरण के लिए उनका विश्वास जीतना आवश्यक होता है। कलेक्टर ने मंडला जिले की भौगोलिक, सांस्कृतिक, सामाजिक, ऐतिहासिक विशेषताओं के बारे में बताया। उन्होंने मंडला से मिले जीवाश्म के बारे में भी विस्तृत चर्चा की। इस अवसर पर सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विजय तेकाम, एसडीएम सुलेखा उईके, रंजीत गुप्ता एवं संबंधित उपस्थित थे।

कलेक्टर श्रीमती हर्षिका सिंह ने प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों को जिला प्रशासन द्वारा किए गए विभिन्न महत्वपूर्ण कार्यों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने हेबीटेट राईट्स का वितरण, सामुदायिक वनाधिकार पट्टा, विभागीय योजनाओं के क्रियान्वयन के बारे में बताया। श्रीमती सिंह ने जनजातीय क्षेत्रों में कार्य के दौरान आने वाली विभिन्न चुनौतियों के बारे में भी बताया। उन्होंने अपने अनुभव साझा करते हुए कोविड वैक्सीनेशन तथा कोविड प्रोटोकॉल के पालन के लिए प्रशासन द्वारा बनाई गई रणनीति को भी साझा किया। श्रीमती सिंह ने एससी, एसटी एक्ट, कोदो-कुटकी तिहार, एक जिला एक उत्पाद, दीदी केफे तथा अन्य जिला प्रशासन के नवाचारों एवं कार्यक्रमों की जानकारी दी। उन्होंने जनजातीय विभाग की संरचना, जनजातीय जिलों में शैक्षणिक योजनाएं तथा वनाधिकार से संबंधित पावरप्वाईंट प्रेजेन्टेशन के माध्यम से विस्तृत जानकारी दी।








No comments:

Post a Comment