मध्यप्रदेश पंचायत चुनाव मामले पर हाई कोर्ट में सुनवाई,हाई कोर्ट ने पंचायत चुनाव को लेकर स्टे देने से किया इंकार....... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, December 10, 2021

मध्यप्रदेश पंचायत चुनाव मामले पर हाई कोर्ट में सुनवाई,हाई कोर्ट ने पंचायत चुनाव को लेकर स्टे देने से किया इंकार.......




रेवांचल टाईम्स - जबलपुर के हाई कोर्ट ने चुनाव प्रक्रिया पर रोक लगाने से किया इनकार,याचिकाकर्ताओं के वकील विवेक तंखा का बयान.....

      मध्य प्रदेश में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव पर रोक लगाने के लिए दायर पांच याचिकाओं पर गुरूवार को एमपी हाईकोर्ट ने सुनवाई की चीफ जस्टिस रवि विजय कुमार मलिमठ और जस्टिस विजय शुक्ला की युगलपीठ ने चुनाव पर रोक लगाने से इनकार करते हुए अनावेदकों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है,याचिका पर अगली सुनवाई चार सप्ताह बाद निर्धारित की गई है।


मध्य प्रदेश पंचायत चुनाव पर हाईकोर्ट ने रोक लगाने से किया इनकार....

चुनाव पर रोक लगाने कि लिए दायर हुई पांच याचिका भोपाल निवासी मनमोहन नायर, नरसिंहपुर निवासी संदीप पटेल और भिंड से जिला पंचायत अध्यक्ष रामनारायण हिंडोलिया सहित अन्य पांच याचिकाओं में तीन चरणों में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को चुनौती दी थी......


याचिका में कहा गया था कि राज्य सरकार ने पूर्व की तरह आरक्षण लागू कर चुनाव करवाने के संबंध में अध्यादेश पारित किया है।सरकार द्वारा यह अध्यादेश कांग्रेस शासनकाल में निर्धारित आरक्षण को निरस्त कर लागू किया गया है।प्रदेश सरकार का यह आध्यादेश पंचायत चुनाव एक्ट का उल्लंधन करता है।इसलिए इस चुनाव पर रोक लगाई जानी चाहिए,याचिका में कहा गया था कि पंचायत एक्ट में रोटेशन व्यवस्था का प्रावधान है,पूर्व की तरह आरक्षण करना पंचायम एक्ट की रोटेशन व्यवस्था के खिलाफ है।इसके अलावा 2018 में निवाड़ी जिला का गठन किया गया है।बिना सीमांकन किए नए जिले में पंचायत चुनाव नहीं करवाए जा सकते है,जिला पंचायत, जनपद पंचायत के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद भी रोटेशन प्रक्रिया के तहत निर्धारित करने का प्रावधान है।हाईकोर्ट में 40 मिनट हुई सुनवाई युगलपीठ ने लगभग 40 मिनट सुनवाई करने के बाद चुनाव प्रक्रिया में रोक लगाने से इनकार कर दिया।युगलपीठ ने अनावेदकों को नोटिस जारी कर अगली सुनवाई 7 जनवरी को निर्धारित की है।याचिकाकर्ता की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक कृष्ण तन्खा,पूर्व महाधिवक्ता शशांक  शेखर और हिमांशु मिश्रा ने पैरवी की...

सर्वोच्च न्यायालय में दायर करेंगे याचिका :-

वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक तन्खा ने बताया कि एमपी हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली युगलपीठ ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव पर रोक लगाने से इनकार कर दिया।युगलपीठ का तर्क था कि पूर्व में ग्वालियर बैंच ने पंचायत चुनाव संबंधित चुनाव की सुनवाई करते हुए पंचायत चुनाव में रोक लगाने की अंतरित राहत देने से इनकार कर दिया था।ग्वालियर बैंच ने नोटिस जारी कर जवाब मांगा है,न्यायिक अनुशासन के कारण दूसरे बैंच इस मामले में अलग व्यू नहीं ले सकती है।तन्खा ने बताया कि इस संबंध में वह सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर करेंगे....

No comments:

Post a Comment