अवैध खनन की मार....... और बुझ गए तीन घरों के चिराग - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Sunday, December 5, 2021

अवैध खनन की मार....... और बुझ गए तीन घरों के चिराग

 



रेवांचल टाइम्स: शाजापुर जिले के कालापीपल थाना क्षेत्र से 3 बच्चें कल शाम से लापता थे. तीनों बच्चों की खोजबीन हो रही थी. खोजबीन के दौरान आज सुबह तीनों बच्चों के कपड़े एवं जूते तालाब किनारे पड़े हुए थे. जब तालाब में पुलिस ने ग्रामीणों की मदद से तलाश शुरू की तो तीनों बच्चों के शव मिल गए. तीनों के शवों को पीएम के लिए कालापीपल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र ले जाया गया.

दरअसल कालापीपल के भुरिया खजुरिया गांव के नैतिक पिता रामबाबू उम्र 9 वर्ष, अभिषेक पिता अमरसिंह बागरी उम्र 13 वर्ष एवं अभिषेक पिता आत्माराम उम्र 10 वर्ष कल स्कूल से घर आने के बाद तीनों चौराहे पर खेलने के लिए गए और देर रात तक वापस नहीं लौटे थे.

अवैध उत्खनन ने ली जान?
परिजनों और ग्रामीणों ने तीनों बच्चों की तलाश आसपास के इलाके में की लेकिन कोई पता नहीं चला. परिजनों ने कालापीपल पुलिस को भी शिकायत की. आज सुबह गांव के समीप बने तालाब के किनारे खोजबीन के दौरान तीनों बच्चों के कपड़े और जूते दिखाई दिए. तालाब पूरी तरह से सूखा है, पूरे तालाब में पानी नहीं है लेकिन अवैध उत्खनन करने वालों ने तालाब के अंदर खुदाई कर दी. तालाब में करीबन 30 फीट गहरी खुदाई कर दी, उसमें पानी भरा हुआ था. संभवतः तीनों बच्चे वहां नहाने के लिए चले गए. तीनों बच्चों में एक तैरना जानता था, उन दोनों को बचाने में वह भी डूब गया. कालापीपल पुलिस ने मर्ग कायम कर मामला जांच में लिया है.

पूरा गाँव हुआ गमगीन
तीनों बच्चे अलग-अलग परिवार के है. तीन परिवारों के चिराग बुझ गए. तालाब में बच्चों की जानकारी लगते ही बच्चों के परिजन और ग्रामीण तालाब पर पहुंच गए, जैसे ही बच्चों के शव निकाले गए, परिजनों का रो रोकर बुरा हाल था. घटना से पूरे गाँव में मातम छा गया. इनमें से दो बच्चे कक्षा चौथी और एक बच्चा कक्षा आठवीं का छात्र था और गांव के ही सरकारी स्कूल में पढ़ने जाते थे.

No comments:

Post a Comment