बाल-दिवस पर स्पेशल कविता....चांद ने जब देखा धरती पर, बच्चों को खेलता लुकन-छुपाई .... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Sunday, November 14, 2021

बाल-दिवस पर स्पेशल कविता....चांद ने जब देखा धरती पर, बच्चों को खेलता लुकन-छुपाई ....



 (इस कविता में खेल भी है, समझदारी भी है और सेहत भी है)    

शीर्षक : "खेल खेल में"

      सलोनी चावला 


रेवांचल टाईम्स - चांद ने जब देखा धरती पर,

बच्चों को खेलता लुकन-छुपाई;

सोच में डूबा, बोला खुद से, 

"मैं किसके संग खेलूँ भाई ?"


घंटों बैठा सोचता रहा, 

आखिर सूझा एक ख्याल:

डायल किया नंबर बादल का,

फोन करा और किया सवाल,


"हाय-हेलो कैसे हो यार,

क्यों नहीं देते तुम दर्शन ?

फुरसत पाकर काम से कभी,

पधारो मेरे भी आंगन।"


छुट्टी के दिन रविवार को,

बादल ले आए तशरीफ़।

चांदनी ने खीर परोसी,

बादल ने करी तारीफ।


लिया डकार ऊंचा बादल ने,

कहा, "मुझे नींद है आई।"

"नींद भगाओ", बोला चंदा, 

"चलो खेलें लुकन-छुपाई।"


कहते ही जा छुपा चांद, 

नहीं देता कहीं दिखाई;

थका ढूंढ-ढूंढ कर बादल,

हर कोशिश व्यर्थ गँवाई।


मुस्कुरा कर निकला चांद,

कहा, "बादल तुम बुद्धू।

बुद्धि तेज़ होगी तुम्हारी,

जो खाओ घिया और कद्दू।"


"सारा अंबर देखा तुमने;

नहीं देखा बस अपने पीछे।

मैं कहीं नहीं छुपा था दूर,

था छुपा तुम्हारे ही पीछे।"


सुनकर बादल भी मुस्काया,

कहा, "करता हूं वादा-

खाकर फल और हरी सब्जियां,

होशियार बनूंगा ज्यादा।"


"अगली बार किसी भी खेल में,

रहूंगा तुम से आगे,

अब चलता हूं फिर मिलेंगे,

ओके, टाटा, बाय-बाय।"


           रचयिता - सलोनी चावला

No comments:

Post a Comment