खाद की आस में किसानों की लगी लंबी कतार, प्रशासन मौन - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, November 29, 2021

खाद की आस में किसानों की लगी लंबी कतार, प्रशासन मौन

  




रेवांचल टाईम्स : प्रदेश भर में किसानों को हो रही खाद की किल्लत को लेकर प्रशासन बेखबर बना हुआ है। एक तरफ देखा जाए तो प्रशासन की तरफ से किसानों के लिए बड़े-बड़े वादे किए जा रहे हैं तो वहीं मुरैना में सोमवार सुबह का दृश्य साफ तौर पर प्रशासन के सारे वादों की पोल खोलता दिख रहा है। दरअसल मुरैना सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के गल्ला मंडी परिसर में बीती रात से ही खाद के लिए किसान अपने परिवार के साथ लम्बी लाइनों में बैठे हुए हैं।

जानकारी के अनुसार सोमवार की सुबह गल्ला मंडी परिसर में किसान लंबी कतारों में लगे खाद मिलने की आस में बैठे हुए हैं। तो वहीं प्रशासन की लापरवाही भी देखी गई। यहां पुलिस प्रशासन का कोई भी कर्मचारी मौके पर मौजूद नहीं था। लंबी कतारों को लेकर कई लोगों से विवाद की स्थिति उत्पन्न हुई, लेकिन प्रशासन मौके पर नहीं पहुंचा। खाद की किल्लत को लेकर किसान रात से ही अपने नंबर पर बैठे हुए हैं और उनके साथ-साथ महिला किसान भी अपने छोटे बच्चों को लेकर खाद की आस लगाए बैठी हैं, लेकिन हर रोज नंबर पर आने के बाद उनको खाद नसीब नहीं हो पा रहा है। सुबह से लेकर शाम तक किसान खाद के इंतजार में बैठ कर वापस अपने घर चले जाते हैं। सर्दी के मौसम में सुबह से ही किसान खाद के लिए इंतजार में बैठे हुए हैं। इससे पहले भी प्रशासन के द्वारा खाद की किल्लत को खत्म करने के लिए काफी संख्या में खाद की रैक मंगाई गई थी, लेकिन कुछ दिनों बाद इसकी मारा-मारी की स्थिति फिर से उत्पन्न हो गई। खाद के लिए लंबी कतारों में मासूम बच्चे भी अपने परिवार के साथ आस लगाए बैठे हुए हैं कि कब उनको खाद मिलेगा जिससे अपने परिवार के साथ घर जा सकेंगे।

No comments:

Post a Comment