दुनिया ने मानी भारतीय टीकों की ताकत 96 देश दे चुके हैं कोविशील्ड और कोवैक्सीन को मान्यता - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Thursday, November 11, 2021

दुनिया ने मानी भारतीय टीकों की ताकत 96 देश दे चुके हैं कोविशील्ड और कोवैक्सीन को मान्यता





नई दिल्ली । पूरी दुनिया में भारतीय कोरोना टीकों का डंका बोल रहा है। मंगलवार को देश के स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने बताया कि दुनियाभर के 96 देशोंने कोवैक्सीन और कोविशील्ड को मान्यता दी है। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि इन दोनों कोविड-19 टीकों को विश्व स्वास्थ्य संगठन से आपातकालीन उपयोग सूची (ईयूएल) भी प्राप्त हुई है। स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा, "डब्ल्यूएचओ ने अब तक ईयूएल में आठ टीकों को शामिल किया है। हमें खुशी है कि इनमें से दो भारतीय टीके हैं - कोवैक्सिन और कोविशील्ड। दुनिया के 96 देशों ने इन दोनों टीकों को मान्यता दी है। दोनों टीकों को मान्यता देने वाले देशों में 96 देशों में कनाडा, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, यूके, फ्रांस, जर्मनी, बेल्जियम, रूस और स्विट्जरलैंड शामिल हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी बताया कि देश में अब तक 109 करोड़ से अधिक कोविड-19 वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। केंद्र के "हर घर दस्तक" मेगा टीकाकरण अभियान के तहत, मंत्री ने कहा, "टीकाकरण अभियान चलाने के लिए स्वास्थ्य कार्यकर्ता सभी घरों में जा रहे हैं।" उन्होंने आगे कहा कि केंद्र सरकार दुनिया के बाकी हिस्सों के साथ बातचीत तक रही है ताकि दुनिया के सबसे बड़े कोविड -19 टीकाकरण कार्यक्रम के लाभार्थियों को स्वीकार किया सके और उन्हें मान्यता भी दी जा सके, जिससे शिक्षा, व्यवसाय और पर्यटन उद्देश्यों के लिए यात्रा आसान हो सके। मंडाविया ने जोर देकर कहा कि विदेश मंत्रालय के साथ स्वास्थ्य मंत्रालय सभी देशों के साथ निरंतर बातचीत में है ताकि परेशानी मुक्त अंतरराष्ट्रीय यात्रा की सुविधा के लिए वैक्सीन प्रमाणपत्रों की पारस्परिक मान्यता प्राप्त हो सके।

No comments:

Post a Comment