अब नामांतरण के लिए नहीं लगाने पड़ेंगे चक्कर...अब MP में बनेगी देश की पहली साइबर तहसील - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Tuesday, November 23, 2021

अब नामांतरण के लिए नहीं लगाने पड़ेंगे चक्कर...अब MP में बनेगी देश की पहली साइबर तहसील



रेवांचल टाइम्स :सीएम शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज मंत्रालय में कैबिनेट की बैठक हुई। शिवराज कैबिनेट की बैठक राष्ट्र गीत वंदे मातरम् के गायन के साथ शुरू हुई। कैबिनेट बैठक में कई निर्णय लिए गए हैं। अब मप्र में प्रॉपर्टी और जमीनों के अविवादित नामांतरण के लंबित मामलों का निराकरण करने के लिए अलग साइबर तहसील यानी हाईटेक राजस्व कोर्ट का गठन किया जाएगा। राजस्व विभाग के प्रस्ताव के अनुसार हर दो जिलों के बीच एक साइबर तहसील बनेगी। जिसमें पक्षकारों के बयान ऑनलाइन होंगे।
आसान होगी नामांतरण की राह: मिश्रा

कैबिनेट बैठक के निर्णय की जानकारी देते हुए मप्र गृहमंत्री व सरकार के प्रवक्ता डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि मप्र पहला राज्य होगा, जहां साइबर तहसील का गठन किया जा रहा है। कैबिनेट ने इस संबंध में साइबर तहसील बनाने को मंजूरी दे दी है। इससे नामांतरण की राह आसान होगी। इसके लिए अलग से तहसीलदार नियुक्त किया जाएगा। इस व्यवस्था में खरीदार और बेचने वाले को नामांतरण के लिए तहसील कार्यालय आने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आवेदन के बाद तहसीलदार नोटिस जारी करेगा। आपत्ति नहीं आने पर नामांतरण कर दिया जाएगा।
पंचायत राज संसोधन अध्यादेश का अनुसमर्थन

कैबिनेट ने पंचायत राज संसोधन सम्बंधित अध्यादेश 2021 का अनुसमर्थन भी कर दिया है। गृहमंत्री मिश्रा ने बताया कि अब पंचायतों के चुनाव 2019 से पहले के परिसीमन के अनुसार ही होंगे। इसके साथ ही 2014 में हुए पदों के आरक्षण मान्य रहेगा। सरकार ने मप्र पंचायत राज एवं ग्राम स्वराज (संशोधन) अध्यादेश-2021 लागू कर दिया है। जिसके मुताबिक पंचायत चुनाव की तैयारियों के बीच सरकार ने ऐसी पंचायतों के परिसीमन को निरस्त कर दिया है, जहां बीते एक साल से चुनाव नहीं हुए हैं। ऐसी सभी जिला, जनपद या ग्राम पंचायतों में पुरानी व्यवस्था ही लागू रहेगी। जो पद, जिस वर्ग के लिए आरक्षित है, वही रहेगा।
25 नंवबर को केंद्रीय ऊर्जा मंत्री करेंगे शिलान्यास

गृहमंत्री डॉ. मिश्रा ने बताया कि आगर में 550, शाजापुर में 450 व नीमच में 500 मेगावाट के सौर ऊर्जा प्लांट निर्मित किए गए हैं। जिसका शिलान्यास शाजापुर में 25 नंवबर को केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह और सीएम शिवराज सिंह चौहान करेंगे। इस दिन ऊर्जा साक्षरता अभियान की शुरुआत भी होगी।
पातालपानी में टंट्या मामा के बलिदान दिवस निकलेंगी यात्राएं

कैबिनेट की बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी देते हुए गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि आजादी के 75वें महोत्सव के अंतर्गत 4 दिसंबर को पातालपानी में टंट्या मामा के बलिदान दिवस पर बड़े कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यक्रम को लेकर दो यात्राएं 27 नवंबर से निकाली जाएगी। पहली यात्रा टंट्या मामा की जन्मस्थली पंधाना के बड़ौदा अहीर गांव से और दूसरी यात्रा सैलाना से शुरू होगी और विभिन्न जिलों से होते हुए धार होकर इंदौर पहुंचेगी। सभी स्थानों पर टंट्या मामा को श्रद्धांजलि, पुष्पांजलि, वक्ताओं के भाषण होंगे।
पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम बदलने के लिए प्रस्ताव बनाने के निर्देश

मप्र के गृहमंत्री डॉ. मिश्रा ने बताया कि कैबिनेट में सीएम ने जानकारी दी कि पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम अमर क्रांतिकारी टंट्या भील के नाम से होगा। इस संबंध में उन्होंने प्रस्ताव बनाने को कहा है।
सीएम ने मंत्रियों को 25 दिसंबर से पहले समीक्षा करने को कहा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी मंत्रियों से 25 दिसंबर तक अपने-अपने विभागों, जिलों की समीक्षा करने को कहा है। उनसे कहा गया है कि वे विकास कार्यों की समीक्षा करें। 25 दिसंबर से 26 जनवरी तक गुड गवर्नेंस के तहत जनता को दी जाने वाली सुविधाओं से जुड़ी योजनाओं को बेहतर बनाने के लिए कहा गया है। साथ ही मंत्रियों को अपने प्रभार के जिलों में खाद की आपूर्ति की व्यवस्था और कोविड-19 वैक्सीनेशन की प्रगति की समीक्षा करने के निर्देश दिए गए हैं।

No comments:

Post a Comment