दिनभर के निर्जल व्रत के बाद चांद का दीदार कर तोड़ा व्रत... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, October 25, 2021

दिनभर के निर्जल व्रत के बाद चांद का दीदार कर तोड़ा व्रत...



    


रेवांचल टाइम्स नैनपुर - सुहाग के लिए शुभ मुहूर्त में महिलाओं ने समूह में पूजा अर्चना करने के बाद दिनभर के निर्जल व्रत को चांद का दीदार होने के बाद व्रत को तोड़ा है। सुहागिन महिलाओं ने रविवार को करवाचौथ का व्रत रखकर अपने अखंड सौभाग्य की कामना की। लंबे इंतजार के बाद आए इस दिन को व्रत रखने के बाद शाम को चांद के साथ पति दर्शन कर महिलाओं ने व्रत तोड़ा। सोलह श्रृंगार कर सजी-धजी सुहागिनों ने मां गौरी की पूजा की।


महिलाओं ने इस व्रत में पति दर्शन के लिए आधुनिकता का भी सहारा लिया है। करवाचौथ व्रत का क्षेत्र में धूमधाम रही। नई नवेली से लेकर लगभग सभी सुहागिन महिलाओं ने व्रत रखा। इस दौरान महिलाएं दिनभर अन्न जल ग्रहण नहीं किया। शाम को निकले चांद के साथ चलनी के ओट से पति का दीदार कर व्रत तोड़ा है। इस दिन महिलाएं अलग-अलग परंपराओं के अनुसार चांद की ओट से पति को देखकर, वहीं सुहागिनों ने पति के हाथ से पानी या जूस पीकर व्रत को तोड़ दिया है।


सोलह श्रृंगार से सजी रहीं व्रती महिलाएं

व्रती महिलाओं ने करवाचौथ के दिन सजती संवरती रही। आसपास की महिलाएं एकत्रित होकर समूह में एक-दूसरे को सजाने संवारने में जुटी रही। इस तरह श्रृंगार के इस त्यौहार में महिलाओं ने ब्यूटी पार्लर का सहारा लिया। शहर के अधिकांश ब्यूटी पार्लरों में दिनभर भीड़ लगी रही। मेंहदी लगाने से लेकर सोलह श्रृंगार करने बैठी महिलाओं ने चूड़ी-कंगन, बिंदिया के साथ बेहतर से बेहतर आभूषण, वस्त्रों से सुसज्जित रहीं और अपने पिया को लुभाने के लिए कोई कोर कसर नहीं छोड़ी।


विधि-विधान से हुई पूजा-अर्चना

हिन्दू धर्म संस्कृति में करवाचौथ का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। जिससे गृहणियां दिन भर निर्जला व्रत रखकर शाम ढलते ही चलनी के माध्यम से चांद का दीदार की हैं। करवाचौथ का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। शाम को आंगन व छतों पर पूजा के थाल सजाए गए और पूरे विधि-विधान के साथ भगवान चंद्रमा की पूजा की गई। चांद के दर्शन होते ही सुहागिनों ने पूरे विधि-विधान से चांद की पूजा कर उन्हें अघ्र्य देकर माता करवा के कथा के माध्यम से पुरोहितों से पूजा कराई।                       

नैनपुर से राजा विश्वकर्मा की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment