फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनाकर निकाले पैसे....... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, September 3, 2021

फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनाकर निकाले पैसे.......

 




रेवांचल टाईम्स - 23 मजदूरों के फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनाकर निकाले इस्कीम के पैसे, नौकरी से सस्पेंड,भेजा गया जेल मध्य प्रदेश सरकार के तीन कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है। उनके खिलाफ छिंदवाड़ा जिले ग्राम बोहनखेरी में कम से कम 23 ग्रामीणों के फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र का उपयोग कर निर्माण श्रमिकों के लिए एक राज्य योजना के तहत पैसे की कथित निकासी के संबंध में एक प्राथमिकी दर्ज की गई थी। एक अधिकारी के हवाले से यह जानकारी दी है।

जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी (सीईओ) ने रविवार को एक आदेश जारी कर पंचायत विभाग के बोहनाखेड़ी के पंचायत सचिव राकेश चंदेल, ग्राम रोजगार सहायक संजय चौरे और पंचायत समन्वय अधिकारी सुनील अंधवान सहित पंचायत विभाग के तीन कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है। चौराई पुलिस ने कहा, "जनपद पंचायत सीईओ द्वारा दर्ज शिकायत के बाद,राकेश चंदेल,संजय चौरे,सुनील अंधमान और अन्य रामअवतार वर्मा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 420 (धोखाधड़ी), 465 (जालसाजी),467,468,469, 120-बी (आपराधिक साजिश) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।"  थाना प्रभारी शशि विश्वकर्मा ने आज बुधवार दिनाक 01/09/2021को पूरे केस का खुलासा किया  यह जानकारी दी ।


मध्य प्रदेश सरकार ने शनिवार को जिले के बोहनाखेड़ी गांव के कम से कम 23 ग्रामीणों के फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र का उपयोग कर निर्माण श्रमिकों के लिए एक राज्य योजना के तहत पैसे वापस लेने के बाद जांच के आदेश दिए। कृषि मंत्री कमल पटेल, जो छिंदवाड़ा के प्रभारी मंत्री हैं, ने कहा कि 23 व्यक्तियों के मृत्यु प्रमाण पत्र, जो अभी भी जीवित हैं, बोहनाखेड़ी गांव में जारी किए गए थे। उनके नाम पर एक योजना कर्मकार कल्याण मंडल के तहत पैसा निकाला गया था। चौरई अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस ) प्रीतम सिंह बालरे ने रिपोर्टों का हवाला देते हुए कहा कि प्रथम दृष्टया, भवन और अन्य निर्माण श्रमिक (रोजगार और सेवा की शर्तों का विनियमन) नियम के तहत, जीवित 23 लोगों के फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र का उपयोग करके 2-2 लाख रुपये की राशि वापस ले ली गई थी। इन नियमों के तहत सामान्य मृत्यु की स्थिति में मृतक निर्माण श्रमिक के आश्रितों को 2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि का भुगतान किया जाता है।

अधिकारियों के अनुसार, 2800 की आबादी वाले बोहनाखेड़ी गांव में पिछले दो वर्षों के दौरान कुल 106 मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किए गए थे सारी तब 30 के बाद आज पुलिस के द्वारा आरोपियों को जेल पहुंचा दिया गया है इस कार्य में मुख्य भूमिका एसडीओपी प्रीतम सिंह बाल रे और थाना प्रभारी शशि विश्वकर्मा एसआई अर्चना ठाकुर एसआई असगरअली एएसआई सोहेल खान आरक्षक दिनेश यादव अभिषेक बघेल प्रकाश साहू जय सिंह बघेल आदि का सहयोग रहा।

No comments:

Post a Comment