मनमाना किराया वसूल रहे बस संचालक नही है रेट लिस्ट... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Monday, August 23, 2021

मनमाना किराया वसूल रहे बस संचालक नही है रेट लिस्ट...


रेवांचल टाईम्स - आदिवासी बाहुल्य मंडला जिले में बस संचालको के द्वारा लोगों से मनमाना किया लिया जा रहा है जिले के परिवहन विभाग को सब कुछ जानकारी होने के बाद भी नही की जा रही है कोई कार्यवाही जिससे बस संचालकों के हौसले बुलंद है।

                 जहाँ एक तरफ पूरा देश कोरोना महामारी के प्रकोप से उभरता नजर आ रहा है। कोरोना महामारी के चलते लोगों जीना दूभर हो चुका लोग जैसे तैसे अपना जीवन यापन कर रहे है वही वर्तमान में आसमान छूती महँगाई हर वस्तु के कीमतों में चार गुना का इज़ाफ़ा हुआ है इस कोरोना और महंगाई के चलते लोगो का अपनी कमाई भी कम पड़ने लगी है वही दूसरी तरफ़ त्यौहार का चल रहा है और लोगो के अपने अपनो से मिलने आना जाना पड़ रहा पर ये बसों का मनमाना किराया लोगों को भी राहत नही मिल रही है लोगो पता ही नही है कि कितनी दूरी का कितना किराया देना है बस या ऑटो वाले जो कह दे वह देना पड़ रहा है आज तक महँगाई बढ़ने के बाद बसों का किराया निश्चित नही किया गया है कि 1 किलोमीटर का क्या लेना और 100 किलोमीटर का क्या लेना आज तक किसी भी को ये जानकारी नही और न ही बसों में कोई रेट लिस्ट लगाई गई है जिसको जितना लग रहा उतना लोगो से ले रहे है।

                         वही जानकारी के अनुसार कोरोना काल के पहले 1 रुपये प्रति किलोमीटर लगता था 50 किलोमीटर का 45 से 50 रुपये लिये जाता था पर अब कोरोना काल के बाद से एक किलोमीटर के सीधे ढाई रुपये से


तीन रुपए तक लोगो से वसूले जा रहा है। कोई भी निश्चित किराया नही 10 किलोमीटर के 25 रुपये और 20 किलोमीटर के 45 रुपये 100 किलोमीटर के 170 रुपये हर बस का अपना रेट है वही नागपुर का जो 300 रुपये लगता था अब 800 रुपये लग रहा है। गरीब मजदूर और मध्यम वर्ग के लोगो की आवश्कता है ऑटो, बस में सफर करना पर ये लगातार लूटते आ रहे है इनकी किसी को कोई चिंता नही है अगर आपको सफर करना है तो बस में टिकिट चेकर आपसे जो किराया ले दे दो नही तो बस रोक कर आपको उतार देगें। क्योंकि इस जिले में गरीब मजदूरों और मध्यवर्गीय लोगो की किसी को चिन्ता नही है।

No comments:

Post a Comment