जालसाज का पर्दाफाश: कलेक्टर-तहसीलदार की फर्जी मुहर बनवाकर डॉक्टर से ब्लेकमेलिंग...... अब सलाखों के पीछे - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, June 16, 2021

जालसाज का पर्दाफाश: कलेक्टर-तहसीलदार की फर्जी मुहर बनवाकर डॉक्टर से ब्लेकमेलिंग...... अब सलाखों के पीछे






जबलपुर: जबलपुर पुलिस ने एक ऐसे जालसाज को गिरफ्तार किया है. जिसने कलेक्टर और तहसीलदार की फर्जी सील तैयार कर एक डॉक्टर को चूना लगाने की पूरी योजना बना ली थी. आपको जानकार हैरानी होगी कि आरोपी की उम्र महज 18 साल है और आरोपी को लूटने का आइडिया एक वेब सीरीज देख कर आया था. कम समय मे करोड़पति लखपति बनने की चाह ने उसे जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा दिया.






दरअसल आरोपी ने वेब सीरीज को देखकर डॉक्टर को ठगने की पूरी योजना तैयार कर ली. कलेक्टर और तहसीलदार के फर्जी सील और साइन बना लिए लेकिन आरोपी पुलिस की नजरों से बच नहीं पाया.

अस्पताल में ही आया आइडिया
आरोपी का नाम मोहम्मद हमजा है. जिसने अपने पिता का इलाज रद्दी चौकी स्थित केजीएन अस्पताल में कराया था. उसी दौरान उसके दिमाग में डॉक्टर से ठगी करने की योजना बनाई. आरोपी ने अस्पताल में कमियों को जाना फिर इंटरनेट के जरिए जबलपुर कलेक्टर की सील और साइन तैयार किए.

 

पहला लेटर डॉक्टर को
आरोपी ने केजीएन अस्पताल के डॉक्टर अब्दुल रशीद को तहसीलदार के नाम से पहले एक फर्जी नोटिस भेजा. जिसमें कहा गया के अस्पताल बनाने के मापदंड के साथ तमाम विसंगतियों को पाया गया है. ऐसे में केजीएन अस्पताल नियमों पर खरा नहीं उतरता लिहाजा आप का रजिस्ट्रेशन रद्द किया जाएगा और उसके साथ ही डॉक्टर को फोन कर दो लाख रुपए की मांग भी की.




कलेक्टर की सील भेज डराया
पहले डॉक्टर ने नोटिस पर गौर नहीं किया तो उसके बाद आरोपी ने कलेक्टर के सील साइन तैयार कर ली. इसके बाद एक फर्जी आदेश जारी कर दिया. जिसमें कहा गया कि मापदंड पूरे न कर पाने के चलते केजीएन अस्पताल को सील किया जाता है. इस आदेश को सुनते ही डॉक्टर अब्दुल रफीक ने जानकारी जुटाई तो उनके भी होश फाख्ता हो गए.




साइबर टीम की मदद ली गई
डॉक्टर ने इसकी शिकायत पुलिस से की जिसके बाद साइबर टीम ने खोजबीन कर आरोपी मोहम्मद हमजा को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ में आरोपी ने बताया कि उसने डॉक्टर को ठगने के लिए हर्षद मेहता वेब सीरीज से आइडिया लिया था. अब पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है और यह जानने की कोशिश कर रही है कि कहीं इसके पीछे कोई गिरोह तो काम नहीं कर रहा है. वहीं फरियादी डॉक्टर अब्दुल लतीफ खान ने आरोपी पर सख्त कार्यवाही की मांग की है.

No comments:

Post a Comment