निवास थाना परिसर में महिला हेल्प डेस्क के लिए बनी बिल्डिंग बनी आवास घर बीजाडांडी और टिकरिया थाना परिसर की बिल्डिंग में भी लटक रहे ताले - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Tuesday, June 15, 2021

निवास थाना परिसर में महिला हेल्प डेस्क के लिए बनी बिल्डिंग बनी आवास घर बीजाडांडी और टिकरिया थाना परिसर की बिल्डिंग में भी लटक रहे ताले

 


रेवांचल टाइम्स  -  जिला के लगभग अधिकतम थाना परिसर में महिलाओं के लिए सहायता केंद्र महिला हेल्प डेस्क सुचारू रूप से संचालित कर दिया गया है परंतु निवास थाना परिसर में बनी बिल्डिंग को लावारिस की तरह छोड़ दिया गया है बिल्डिंग में ताला लटक रहा है सूत्रों की माने तो महिला हेल्प डेस्क की बिल्डिंग आरक्षक का आवास गृह बना हुआ है। यही हाल बीजाडांडी और नारायणगंज टिकरिया थाना परिसर का है दूर तक इस बिल्डिंग बनने का उद्देश्य नजर नहीं आ रहा है बिल्डिंगों में जबकि इस बिल्डिंग का निर्माण महिलाओ के लिए विशेष महिला सहायता के लिए निर्माण किया गया था परंतु ऐसा लग रहा है इस बिल्डिंग को बनाकर नजराने के लिए छोड़ दिया गया है।


 क्या है इस बिल्डिंग का महत्व 


मंडला मध्य प्रदेश का आदिवासी बहुल जिला है मध्य प्रदेश सरकार द्वारा मंडला जिला में नारी शक्ति महिला को सशक्त बनाने महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए उर्जा महिला हेल्प डेस्क का शुभारंभ किया गया था परंतु निवास थाना परिसर में बिल्डिंग झांकी बनकर रह गई है , मध्य प्रदेश सरकार के द्वारा ऊर्जा महिला हेल्प डेस्क की शुरुआत की गई थी जिससे महिलाओं पर हो रहा अत्याचार और शोषण से महिलाओं को बचाने के लिए, उन्हें न्याय दिलाने के लिए, महिलाओं पर हो रहे घरेलू हिंसा अत्याचार के खिलाफ नारी शक्तियों को न्याय मिलेगा इस उद्देश्य से महिला हेल्प डेस्क की शुरुआत की गई थी। परंतु पुलिस प्रशासन के आला अधिकारियों की लापरवाही देखने को मिल रही है। अभी तक इस बिल्डिंग में कार्य शुरू नहीं किया गया है ना ही किसी महिला आरक्षक को नियुक्त किया गया है।


 क्यों जरूरी है महिला हेल्फ डेस्क का खुलना


आए दिन महिलाओं पर हिंसा के मामले सामने आते हैं महिला उत्पीड़न हो या दहेज के नाम पर उन पर अत्याचार हो या उनका शोषण हो महिलाओं को उचित न्याय नहीं मिल पाता है ऐसी स्थिति यदि थाना परिसर में महिला हेल्प डेस्क की शुरुआत हो जाती है तो ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को न्याय मिल सकेगा आधे से ज्यादा महिलाओं को न्याय मिल सके इस उद्देश्य से मध्यप्रदेश शासन द्वारा महिला हेल्प डेस्क की शुरुआत की गई है ताकि महिलाओं पर हो रहे शोषण अत्याचार के खिलाफ एक लड़ाई लड़ी जा सके और महिलाओं को न्याय मिल सके अतः महिलाओं को न्याय दिलाने के लिए महिला हेल्प डेस्क का शुभारंभ किया जाना महत्वपूर्ण हो गया है।


रेवांचल टाइम्स निवास से देवेंद्र चौधरी की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment