प्रशासन के नाक के नीचे सत्ताधारी नेता करते रहे पूर्ण लॉक-डाउन का उल्लंघन- नियम सिर्फ विरोधियों के लिए? - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Friday, May 7, 2021

प्रशासन के नाक के नीचे सत्ताधारी नेता करते रहे पूर्ण लॉक-डाउन का उल्लंघन- नियम सिर्फ विरोधियों के लिए?


 

रेवांचल टाईम्स :- एक तरफ प्रशासन ने सिवनी जिले में सम्पूर्ण लॉकडाउन लगाया है शादी विवाह तक मे रोक लगाई जा रही है जिसकी अनुमति स्वयं अनुविभागीय अधिकारी के द्वारा दी जा रही है सूत्रों के अनुसार उस पर भी रोक लगाने की प्रकिया चल रही है । जबकि हिन्दू धर्म मे हल्दी लगने के बाद विवाह में रोक नही लगाई जाती है, घर परिवार में मृत्यु के बाद भी कार्यक्रम सम्पन्न होते है। गरीब जनता जिला प्रशासन की बात भी मानने के लिये तैयार है लेकिन सत्ताधारी नेताओ को जनता की परवाह नहीं है।


एक तरफ सिवनी जिले सहित अधिकांश देश में संपूर्ण lock-down की स्थिति बनी हुई है लगातार कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है मृत्यु दर संख्या बढ़ रही है। देशभर में हाहाकार मचा हुआ है किंतु सत्ता में बैठे लोग आम-जन की परवाह ना करते हुए अपनी राजनीतिक रोटियां सेक रहे हैं।


 भाजपा केंद्र से लेकर राज्यों तक सत्ता में बैठी हुई है, कोरोना महामारी के इस संकटकाल में एक राज्य की महिला मुख्यमंत्री से भयभीत होकर उसके खिलाफ देशभर में प्रदर्शन की नोटंकी का सोशल मीडिया में भी मजाक बना हुआ हैं। लोगों को आने-जाने या  कार्यक्रम य सामाजिक कार्यक्रम के लिए रोक लगी हुई है,फिर भी सत्ता में बैठे भाजपा के लोग आपदा में अवसर तलाश रहे हैं, यह कहां तक न्ययोचित है। भाजपा कार्यकर्ता जिनका 18 करोड़ का दावा किया जाता है आज देश में  अंदर विकराल महामारी में जमीन से गायब है जिन्हें लोगों की मदद साथ देना चाहिए था  बजाय ये देशभर में प्रदर्शन कर रहे हैं।


 आम आदमी पार्टी सिवनी के जिलाध्यक्ष अधिबक्ता दुर्गेश विश्वकर्मा ने आरोप लगाया कि आज सिवनी में कोरोना मरीजों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती दिख रही है, 10 से 15 लोगों की मृत्यु हो रही हैं, इस पर सत्ता में बैठे भाजप के लोग इनकी दवा,बेड़, वैक्सीन, आईसीयू, ऑक्सीजन, की व्यवस्था करवाने में लोगों की साथ देने के बजाय वे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करते हुए जिले भर में प्रदर्शन करके जनता के बीच गलत तरीके  से अफवाह उड़ा रहे हैं ,शासन प्रशासन  की नियम की धज्जियां उड़ाते हुए ये लोग आपदा में अवसर तलाश रहे हैं ,आज तक एक भी  सत्ताधारी कोई भी नेक काम करते जमीन में नही दिखाई दे रहे है।

आप की ओर से जारी प्रेस विघ्प्ति में मीडिया प्रभारी राजेश पटेल ने

सिवनी जिला प्रशासन से मांग की कि  सिवनी में संपूर्ण लाक डाउन होने के बावजूद बीजेपी के पदाधिकारी ने सोशल डिस्टेंसिंग व लॉक डाउन का मजाक उड़ाया हैं, जिसे नजरअंदाज नही किया जा सकता कोविड महामारी के चलते सिवनी से किसानों ने अपना आंदोलन स्थगित किया हुआ है यदि इनके विरुद्ध कार्यवाही नही की गई तो आम आदमी पार्टी  इनके खिलाफ रोड पर आएगी जिसकी जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी।


   भाजपा नेताओं की नोटंकी चल  रही थी वही गरीबों से चल रही थी  वसूली

      मामला गांधी वार्ड का है जहाँ राशन वितरक आपदा में अवसर का लाभ उठाते हुए गरीबों को दिए जाने वाले राशन की वसूली करते रहा नागरिकों ने दूरभाष में अपने जान पहचान के सत्ता धारी दल के नेताओं को मुख्यमंत्री की घोषणा की बात कहते हुए शिकायत की परंतु किसी ने कोई खोज खबर नही ली जिसकी सूचना समाजसेवी आप के गोविंद श्रीवास उर्फ भैया सरकार ने तहसीलदार को दी जिन्होंने कार्यवाही का आश्वासन दिया है ।

       भाजपा को  धरना प्रदर्शन करना था तो  बंगाल में जाकर यह धरना प्रदर्शन करते सिवनी सहित  देशभर में प्रदर्शन की निंदा की जा रही है ।इस भयंकार महामारी पर भाजपा  के लोग बढ़ावा दे रहे हैं,आज देश भर में कोरोना महामारी से दवा के लिए वैक्सीन ऑक्सीजन के लिए लोग चिंतित हैं ,और ये लोग राजनीतिक रोटियां सेक रहे हैं,आम आदमी पार्टी की मांग है कि इन पर जल्द से जल्द जहां-जहां प्रदर्शन एवं धरना देकर कानून तोड़ा है इन सभी भाजपा नेताओं के खिलाफ सिवनी जिला प्रशासन अपराधिक मुकदमा दर्ज करें।

No comments:

Post a Comment