ओम चौरसिया, दिपक शर्मा एवं उनकी टीम संकट के समय बनी नैनपुर नगर के लिए मसीहा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, May 4, 2021

ओम चौरसिया, दिपक शर्मा एवं उनकी टीम संकट के समय बनी नैनपुर नगर के लिए मसीहा

 


रेवांचल टाइम्स(नैनपुर) :- नैनपुर नगर के एकमात्र कोविड टेस्टिंग सेंटर स्वास्थ केंद्र में एंटीजन किट की कमी के चलते मरीजों की अपेक्षाकृत जांच नहीं हो पा रही है, जिससे लोगों को परेशानी उठानी पड़ रही है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के साथ ही इसकी जांच करवाने वाले लोगों की संख्या भी बढ़ रही है, और आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट आने में तीन-चार दिन लग रहा है, जिससे पीड़ितों को चिकित्सकीय सलाह व इलाज प्रारंभ करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।


नैनपुर सामुदायिक स्वास्थ केंद्र को प्रतिदिन करीब सौ एंटीजन किट की आवश्यकता है। मगर 40 किट ही प्राप्त हो रहे हैं। जिस की वजह से कोरोना जांच कराने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में टेस्ट किट की कमी से आने वाले लोगों को हताशा हो रही है। नगर के लोग लगातार सीएचएमओ व बीएमओ से मांग कर रहे हैं कि नगर में अतिशीघ्र पर्याप्त एंटीजन किट उपलब्ध कराई जाएं। ताकि अधिक से अधिक जांच हो और संक्रमित व्यक्तियों का पता चले जिससे तत्काल उनका इलाज प्रारंभ हो सके। नगर सहित आसपास के ग्रामीण अंचल में कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को रोकने में प्रशासन हर स्तर पर मुस्तैद है, पर टेस्टिंग सुविधा कम होने से संक्रमण पर कारगर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है। होम आइसोलेट में रह रहे कोविड मरीजों की इन दिनों सुध भी नहीं ली जा रही है। पूर्व में ऐसे मरीजों को फार्म देकर रोजाना सुबह शाम आक्सीजन व फीवर की स्थिति को अंकित कर ब्लाक आइसोलेशन सेंटर को सूचना दी जाती थी।

परंतु अब स्वास्थ्य विभाग होम आइसोलेट मरीजों की सुध नहीं ले रहा है। विभाग की कार्यप्रणाली में सुधार के बाद ही इस महामारी को नियंत्रित करने में सहायता मिल सकती है।


इस गहराते हुए संकट को देखते हुए नगर के कुछ प्रबुद्ध समाजसेवियों ने अपने हौसलों की उड़ान से नगर की बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था को सुधारने का जिम्मा ले लिया है। ओम चौरसिया, दीपक शर्मा एवं उनकी टीम लगातार नगर की बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था को काफी हद तक सुधार लाने में प्रयासरत है। नगर में इनके द्वारा पहले ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी को देखते हुए, ऑक्सीजन बैंक की शुरुआत की गई।


तथा भारी मात्रा में ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था भी की गई इसके लिए नगर के कई व्यक्तियों ने अपनी क्षमता के अनुसार आर्थिक मदद की जिससे पर्याप्त ऑक्सीजन सिलेंडर की पूर्ति नगर में की गई।


ऑक्सीजन की कमी के बाद फ्लो मीटर की आवश्यकता पड़ी जिस पर विचार करते हुए ओम चौरसिया ने अपने पुराने संबंधों के चलते मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सुपुत्र कार्तिक चौहान से बात करके फ्लो मीटर की समस्या का भी निराकरण किया और नगर में फ्लो मीटर की भी पूर्ति की, एवं लगातार ओम और उनकी टीम लोगों की सहायता करने में प्रयासरत है।


वहीं दूसरी तरफ नगर के जिन जनप्रतिनिधियों को नगर की समस्याओं की जिम्मेदारी लेनी थी वह नदारद हो गए हैं। इस विषम परिस्थिति में उन्होंने जनता का साथ छोड़ दिया है। 

वहीं इस समय ओम चौरसिया दीपक शर्मा और उनकी टीम लोगों के लिए मसीहा बनकर आई हैं।


नगर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लगातार जांच किट की कमी से लोग हताश होकर वापस हो रहे थे, इस समस्या को देखते हुए और कोरोना संक्रमण की चैन को जल्द से जल्द तोड़ने के लिए, ओम चौरसिया द्वारा 100 जांच किट की व्यवस्था की गई है। जिससे अधिक से अधिक संख्या में लोगों की जांच होगी और संक्रमण को रोकने में अधिक सहायता मिलेगी। नगर के लोग इनके कार्यों की लगातार सराहना कर रहे हैं, और इनके स्वस्थ रहने की दुआएं कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि, 


"जो कार्य जनप्रतिनिधियों को करना चाहिए,

वह कार्य आज नगर के हित के लिए ओम चौरसिया, दीपक शर्मा और उनकी टीम कर रही है। जिसके लिए वह बधाई के पात्र हैं एवं नगर के लोगों को इन पर गर्व है।"


नैनपुर रेवांचल टाइम्स से शालू अली की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment