शर्म इनकों नहीं आती आख़िर क्यों... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Saturday, May 1, 2021

शर्म इनकों नहीं आती आख़िर क्यों...



रेवांचल टाईम्स :- पूरे देश में कोरोना महामारी का कहर चरम पर है ।स्वास्थ्य सेवाएं नाकाफी साबित हो रही हैं । आक्सीजन की कमी के कारण लाखों लोग असमय काल के गाल में समा गये है ।सरकार हर संभव प्रयास कर रही हैं । बचाव के उपायों का भरपूर प्रचार प्रसार हो चुका है और लगातार सचेत भी किया जा रहा है । मेडिकल स्टाफ अपनी जान की बाजी लगाकर मरीजों की सेवा में जुटा है । पुलिस विभाग पूरी मुस्तैदी से चिलचिलाती धूप में भी सड़कों पर खड़ा होकर लोगों को समझाईश दे रहा है । लेकिन कुछ लापरवाह, गैरजिम्मेदार या कहें बेशर्म लोग बेबजह यहां-वहां घूम रहे है और बजारों में भीड़ बड़ा रहे है ये मूर्ख न तो मास्क का उपयोग कर रहे है न सेनेटाइजर का नाही सोशल डिस्टेंस का पालन कर रहे है । ये अपने साथ-साथ अपने परिवार के और पूरे समाज के दुश्मन बने हुये है ।इसी तरह जिन घरों में संक्रमित मरीज है उनके घर के सदस्य भी खुलेआम घूम रहे है ये जानते हुये भी कि उनके कारण संक्रमण फैल सकता हैं ये पढ़े-लिखे मूर्ख जानबूझकर लोगों के संपर्क में आ रहे है और संक्रमण फैला रहे है ऐसे लोगों पर सख्त कानूनी कार्यवाही सुनिश्चित किया जाना जरूरी है ।इसी तरह कुछ लालची व्यापारी भी नियमों की धज्जियां उड़ाते हुये व्यापार कर रहे है साथ ही ये आपदा को अवसर बनाकर सामानों के मनमाने दाम बसूल कर रहे है । ऐसे सभी लोग मानव समाज पर काला धब्बा है ऐसे लोगों का शोसल वायकाट किया जाना चाहिए । ऐसे लोगों को देखकर सबके मुँह से यही निकलता है शर्म इनको नहीं आती।

                     नवीन जैन अकेला

No comments:

Post a Comment