मध्य प्रदेश में ‘कोवैक्सीन’ से भरी गाड़ी लावारिस हालत में मिली, भरी थी आठ करोड़ की कोरोना वैक्सीन - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Saturday, May 1, 2021

मध्य प्रदेश में ‘कोवैक्सीन’ से भरी गाड़ी लावारिस हालत में मिली, भरी थी आठ करोड़ की कोरोना वैक्सीन



भोपाल: मध्य प्रदेश में नरसिंहपुर जिले के करेली बस अड्डे के पास सड़क किनारे करीब 12 घंटे से लावारिस खड़ी एक लॉरी मिली, जिसमें ‘कोवैक्सीन’ टीके की आठ करोड़ रुपये मूल्य की 2.40 लाख खुराक लदी थीं. इस लॉरी का इंजन चालू था और चालक गायब है. इंजन चालू रहने से इसका रेफ्रिजेरेटर काम कर रहा था. इससे उम्मीद जताई जा रही है कि इस लॉरी के कंटेनर में रखीं ‘कोवैक्सीन’ की 2.40 लाख खुराक सुरक्षित होंगी. इस वाहन से ‘कोवैक्सीन’ टीका हैदराबाद से करनाल भेजा जा रहा था.

नरसिंहपुर जिले के पुलिस अधीक्षक विपुल श्रीवास्तव ने बताया कि इस वाहन का पंजीयन नंबर टीएन-06 क्यू 6482 है और शुक्रवार रात करीब 12 घंटे खड़ी रहने के बाद इसे इसके गंतव्य स्थान करनाल (हरियाणा) के लिए यहां से रवाना करवा दिया गया. उन्होंने कहा कि ‘कोवैक्सीन’ टीके की खुराक हैदराबाद से लाई गई थीं.

विपुल श्रीवास्तव ने बताया कि शुक्रवार दोपहर पुलिस को सूचना मिली कि नरसिंहपुर जिला मुख्यालय से करीब 16 किलोमीटर दूर करेली बस अड्डे के पास एक लॉरी खड़ी है जिसका इंजन चालू है और इसपर भारत बायोटेक कंपनी लिखा है. उन्होंने कहा, ‘‘हमने गुरुग्राम (हरियाणा) की ट्रांसपोर्ट कंपनी टीसीआई से संपर्क किया और उन्हें चालक रहित लॉरी के बारे में जानकारी दी. कंपनी ने जीपीएस सिस्टम के जरिये इसे करेली में खड़ा पाया और जब वे इसके चालक से संपर्क नहीं कर पाए तो वे भी चिंतित हो गए.’’

श्रीवास्तव ने बताया कि इसके बाद इस कंपनी ने एक चालक का बंदोबस्त किया और यह लॉरी शुक्रवार रात आठ बजे करनाल के लिए रवाना हो गई. उन्होंने कहा, ‘‘इस लॉरी का चालक विकास मिश्रा अब भी लापता है. हमें उसका मोबाइल फोन मौके से 16 किलोमीटर दूर एक जगह पर मिला है.’’ श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘लॉरी का इंजन चालू होने के कारण रेफ्रिजरेटर काम कर रहा था. इसलिए मुझे उम्मीद है कि इसमें रखे टीके सुरक्षित होंगे.’’

यह पूछे जाने पर कि क्या इस लॉरी चालक को लूटा गया होगा, उन्होंने कहा, ‘‘पारिस्थितिजन्य साक्ष्य बताते हैं कि इस वाहन चालक को लूटा नहीं गया होगा. यदि लूटा गया होता तो अब तक वाहन चालक मिल गया होता. हो सकता है कि वह अपने परिवार में चल रही अनबन के कारण गायब हो गया हो. वह उत्तर प्रदेश के अमेठी का रहने वाला है और 22 से 25 वर्ष के बीच उसकी उम्र होगी. उसे ढूंढ़ने के प्रयास जारी हैं.’’

No comments:

Post a Comment