गले की खराश और खांसी-जुकाम को ठीक करके इम्युनिटी भी बढ़ाता है यह आयुर्वेदिक काढ़ा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, April 21, 2021

गले की खराश और खांसी-जुकाम को ठीक करके इम्युनिटी भी बढ़ाता है यह आयुर्वेदिक काढ़ा



कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए लोग कोरोना गाइडलाइन्स फॉलो करने के साथ ऐसे कई हेल्थ टिप्स भी ट्राई कर रहे हैं, जिससे कि उनकी इम्युनिटी बढ़ सके। इम्युनिटी बढ़ाने में आयुर्वेदिक नुस्खों से बेहतर कुछ नहीं है। गला खराब होना और बुखार से इम्युनिटी कमजोर होती है, जिससे कोरोना इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। आज हम आपको बता रहे हैं एक ऐसा आयुर्वेदिक काढ़ा जो आपके खराब गले को ठीक करने के साथ आपकी खांसी-जुकाम को भी ठीक कर देगा।



सामग्री-
2 लौंग, 2 कप पानी, 2 छोटा चम्मच अदरक का रस, 1 छोटा चम्मच काली मिर्च पाउडर, 3-4 तुलसी के पत्ते, चुटकीभर दालचीनी पाउडर।



ऐसे बनाएं-
सबसे पहले मीडियम आंच में एक पैन में पानी उबालने के लिए रखें। पानी में उबाल आते ही अदरक का रस और तुलसी की पत्तियां डालकर उबालें। अदरक और तुलसी को अच्छे से उबलने दें। लगभग 3-4 मिनट बाद काली मिर्च पाउडर और लौंग डालें। आंच धीमी कर 2 मिनट तक उबालें और फिर आंच बंद कर दें। तैयार है गर्मागर्म ठंड दूर भगाने वाला काढ़ा। ऊपर से चुटकीभर दालचीनी पाउडर पी जाएं।



कब पिएं-
कई लोगों को खाली पेट काढ़ा पीने से पेट की परेशानियां शुरू हो जाती हैं इसलिए सबसे सेफ तरीका है कि खाने के बाद काढ़ा पिएं। वहीं, आप दिन में दो बार चाय की जगह काढ़े को पी सकते हैं। आप चाहें, तो इसमें थोड़ा दूध डालकर इसे चाय की तरह भी पी सकते हैं।

No comments:

Post a Comment