सांसों पर कब्जे की जंग! अस्पताल में पहुंची ऑक्सीजन, परिजनों ने लूट लिए सिलेंडर - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

 आवश्कता है  आवश्कता है ....

रेवांचल टाईम्स समाचार पत्र एव वेव पोर्टल में मध्यप्रदेश के सभी संभाग, जिला, तहसील, विकास खंडों, में संवाददाताओं की एंव विज्ञापनों व खबरों से सबंधित व्यक्ति संपर्क करें इन नम्बरों में 👉 9406771592/ 9425117297/ 8770297430/9165745947

Wednesday, April 21, 2021

सांसों पर कब्जे की जंग! अस्पताल में पहुंची ऑक्सीजन, परिजनों ने लूट लिए सिलेंडर



दमोह: उपचुनाव वाला जिला दमोह में मंगलवार रात सरकार ने जिला चिकित्सालय में ऑक्सीजन पहुंचाई, लेकिन ऑक्सीजन पहुंचते ही मरीजों के परिजनों ने सिलेंडर की लूटमारी शुरू कर दी. कई लोग तो एक-एक सिलेंडर की जगह दो-दो सिलेंडरों को उठाकर भागने लग गए. जब अस्पताल स्टाफ ने परिजनों से सिलेंडर मांगे तो उल्टा वह बदतमीजी पर उतर आए, और हालात बिगड़ने के बाद पुलिस बुलवानी पड़ गई.

सिलेंडर नहीं मिल सके वापस
हालात बिगड़ने के बाद पुलिस तो आई लेकिन वह परिजनों से सिलेंडर वापस नहीं ला पाई. जब बुधवार सुबह सिलेंडरों की जरूरत पड़ी तो फिर हंगामा मच गया. फिर वापस से पुलिस को बुलाया गया लोगों से बात की तो परिजनों ने कहा कि उन्हें अस्पताल पर भरोसा नहीं है. हालांकि किसी तरह कई लोगों को मना कर ऑक्सीजन सिलेंडर पुलिस वापस लेकर आई तो कुछ ने अभी तक सिलेंडर नहीं दिए है.

सभी को जरूरत है ऑक्सीजन की
वहीं इस पूरे घटनाक्रम पर ASP शिवकुमार सिंह का कहना हैं कि सिलेंडर अस्पताल के अंदर ही हैं और मरीजों को लगाए जा रहे है. लोगों से जबरन लिए जाने वाली बात नहीं है. सभी मरीजों को सिलेंडर की जरूरत है इसलिए अस्पताल की ओर से ही सप्लाई की जानी चाहिए.

सुरक्षा की मांग की जा रही थी
दमोह जिला अस्पताल की सिविल सर्जन डॉ ममता तिमोरी का कहना हैं कि उन्होंने 4 दिन पहले पुलिस की सुरक्षा की मांग की थी, इसके लिए एसपी को चिट्ठी भी लिखी थी पर कोई व्यवस्था नहीं की गई. ऑक्सीजन सिलेंडर का ट्रक आने पर मरीज के परिजन खुद ही सिलेंडर उठाकर ले जाते हैं.

No comments:

Post a Comment