दुनिया में पहली बार: तीन प्राइवेट पार्ट के साथ पैदा हुआ बच्चा, डॉक्टर भी हैरान, जाने कहां? - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, April 4, 2021

दुनिया में पहली बार: तीन प्राइवेट पार्ट के साथ पैदा हुआ बच्चा, डॉक्टर भी हैरान, जाने कहां?




बगदाद: इराक में एक बच्चा तीन जननांगों के साथ पैदा हुआ है. डॉक्टरों ने कहा कि उन्होंने ऐसा पहला मामला देखा है, जिसमें किसी बच्चे के पास एक से ज्यादा प्राइवेट पार्ट हैं. आम तौर पर हाथों या पैरों की उंगलियों में संख्या घट या बढ़ सकती है, लेकिन जननांगों के मामले में उन्होंने ऐसा पहली बार देखा है.

मोसुल के नजदीक का मामला

डेलीमेल की खबर के मुताबिक, इस बच्चे का जन्म इराक के उत्तरी हिस्से में मोसुल के पास हुआ है. उन्होंने कहा कि इस बच्चे के साथ चमत्कार जैसा हुआ है. इस बच्चे का तीन में से एक जननांग 2 सेमी लंबा है, तो दूसरा एक सेमी. हालांकि ये मुख्य जननांगों से लगे थे. लेकिन यह घटना सामान्य नहीं हैं. यानी ये किसी शारीरिक कार्य में शामिल नहीं हो सकते. ऐसे में डॉक्टरों ने कहा है कि उसके दोनों अतिरिक्त जननांगों को ऑपरेशन के बाद हटा दिया जाएगा. डॉक्टरों का कहना है कि ऐसा प्रेग्नेंसी के दौरान किसी दिक्कत की वजह से हो सकता है, या इसके लिए परिवाराकि अनुवांशिक इतिहास भी जिम्मेदार हो सकता है.

सुपरनूमेररी का मामला

इस बच्चे के तीन जननांगों के साथ जन्म की घटना दुर्लभ है, लेकिन ये पहला मामला नहीं है. इसे सुपरनूमेररी (Supernumerary penises occur) का मामला कहते हैं. दुनिया भर में 50 से 60 लाख बच्चों के जन्म में ऐसा कोई एक मामला पाया जाता है. हालांकि अबतक दुनिया भर में दो जननांगों के साथ जन्म के करीब 100 मामले सामने आ चुके हैं, लेकिन तीन जननांगों के साथ जन्म का ये पहला मामला है. 


वैज्ञानिकों ने दिया ट्राइफालिया का नाम

इराकी बच्चे के मामले को वैज्ञानिकों ने ट्राइफालिया (triphallia) का नाम दिया है. इस बारे में एक इंटरनेशनल केस स्टडी भी प्रकाशित हो चुकी है. जो इंटरनेशनल जर्नल ऑफ सर्जरी में छपी है. ऐसा ही एक मामला भारत में साल 2015 में सामने आया था. हालांकि उस मामले में ज्यादा डॉक्टरी सबूत नहीं मिल सके. 

No comments:

Post a Comment