मातृशक्ति को समर्पित पड़े और विचार करें.......... - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, March 8, 2021

मातृशक्ति को समर्पित पड़े और विचार करें..........

 


रेवांचल टाइम्स - अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस (8 मार्च) के पावन दिन में अर्पणा अतुल दुबे की ओर से


गूंजती मेरी आवाज इतिहास के हर्फो में बनकर हुंकृति,,,,,,,,,,,

मेरे रूप में ही तो गड़ी है ,,कुदरत,, ने अपनी सबसे मनोरम कृति,,,,,


मुझसे ही पनपती सभ्यता,,,,,,,,,, मुझमें ही झलकती संस्कृति,,,,,,,, मुझमें ही मुस्कुराती एक सुडोल और सुंदर आकृति,, फिर भी पहुंचाते सभी मुझे  ही क्षति ।


मैं ही हूं सुनीति,, दिलाती सदैव उन्नति,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,, देवताओं ने  भी गुनगुनायी मेरी स्तुति,,, ,,नारी तू अबला,, फिर क्यों अतीत से मिली? मुझे ये अनुश्रुति ।।


मैं गरिमा भारत की सुनाती हूं आज अपनी आपबीती,,,,,,,,,,

,, झांसी की तलवार,, में खनकती थी मेरी देशभक्ति,,,,,,,,,,,,,,,,

दुर्गा के रूप में,,,,,,दुश्मनों को दहाड़ती,, मैं ही थी दुर्गावती ।।


मेरे सतीत्व के गवाह हैं आज वो सप्तर्षी,, दुराचारीयों  ने  की  सदा मेरे चरित्र की डकैती,,,,, मरणोपरांत भी ना मिली मुझे अनुरक्ति,, ना मुक्ति ।।


विनोद दुबे के साथ रेवांचल टाइम्स की एक रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment