बैगा,आदिवासी समुदाय के लोगों ने पारंपरिक रीति रिवाज से (शैला और रीना) नृत्य करके निभाई अपनी वर्षो पुरानी परम्परा - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, November 16, 2020

बैगा,आदिवासी समुदाय के लोगों ने पारंपरिक रीति रिवाज से (शैला और रीना) नृत्य करके निभाई अपनी वर्षो पुरानी परम्परा

 



रेवांचल टाईम्स - आदिवासी बाहुल्य जिला मंडला में प्रतिवर्ष अनुसार इस वर्ष भी दीपावली के त्यौहार को  हर्षोल्लास के साथ आदिवासी समुदाय  के द्वारा मनाया गया जिसमें पुराने रीति रिवाज पारंपरिक ढंग से  लैला करमा रीना और मांदर की थाप से  गाजे बाजे के साथ कार्यक्रम का आयोजन किया गया गोवर्धन पूजा  और दीपावली पर में पुराने प्राचीन  परंपरा दिनों दिन विलुप्त होते जा रही है जिसको ताजा करने हेतु अपनी निर्वाहन करने के लिए आदिवासी समुदाय के द्वारा रीना सैला नृत्य  महिला और पुरुषों के द्वारा किया गया जिसमें कार्यक्रम में मुख्य रूप से सुख सिंह धुर्वे, सुरेश यादव ,विनोद यादव , प्रेम सिंह धुर्वे ,मान सिंह परते, बीर सिंह यादव ,भंगी यादव ,सुधधु सिंह, बिशन सिंह , सुक्कल सिंह मरकाम ,अहम भूमिका हेल्थ स्वास्थ्य विभाग के सुनील भासन्त का विशेष सराहनीय योगदान रहा।

रेवांचल टाइम्स से हरीश बिंझिया की रिपोर्ट।

No comments:

Post a Comment