मंडला जिले में हो रही लगातार ठगी, अपराधों को रोकने के लिये नहीं है कोई पुख़्ता इंतजाम, साइबर सेल बस नाम की - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, October 19, 2020

मंडला जिले में हो रही लगातार ठगी, अपराधों को रोकने के लिये नहीं है कोई पुख़्ता इंतजाम, साइबर सेल बस नाम की


रेवांचल टाइम्स - शांतिप्रिय आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र मंडला जिला पिछले कुछ दिनों से अशांत हो गया है? 

       जब भी कोई चाहे इस जिले के निवासरत आदिवासियों के अस्तित्व से असमय कूटनीतिक खेल? खेल? सकता है?


       कोविड़ 19 के बंद चलते कई  पंचायतों के अधूरे घर बर्वाद होने की कगार पर हो गए? ऐसे नाजुक हालात को भाँपते हुये कुछ दलाल भी सक्रिय हो गए हैं? जिन्होंने हितग्राहियों के अधूरे मकान को बनाने के लिये भवन सामग्री घर बैठे देने का झांसा देकर कई दर्जन ग्रामीणों को लूट लिया 

    

    इस  झांसे के माध्यम से ग्रामीणों से 10 हजार से लेकर 80,000

      तक की रकम ऐंठ ली गई।


        उक्त झांसे की लूट वाला मास्टर माइंड कोई और  बाहरी शहर का नहीं बल्कि बीजाडॉडी थाना क्षेत्र दहना छिंदगाव का रहने वाला बखत सिंह मार्को पिता ब्रज लाल मार्को है जिसने अपने समाज के ही गरीब और बेसहारा लोगों से ठगी की है। काफ़ी समय गुजरने के बाद हताश पीडितों ने


उक्त घटना की जानकारी मीडिया को दी और

      मामला मंडला एस पी तक पहुँचा पश्चात निवास थाना इंचार्ज द्वारा दलाल से फोनकर पर बात कर दूसरे दिन बुलाया गया जहाँ उचित कार्यवाही न कर समझाईस दी गई की दो दिन के बाद आप पीड़ितों का पूरा पैसा वापस कर दे वर्ना कार्यवाही की जायेगी, और इसी छूट के चलते ये ठगी का आरोपी अपना मोबाइल बंद कर खुला घूम रहा है। पैसे मिलने की आस लेकर ये ठगी के शिकार थाने द्वारा बुलाये जाने की सूचना पर चार पेशी कर आज 19 अक्टूबर को भी लोग थाने में बैठे दलाल का इंतजार कर रहे हैं और पुलिस भी इस दलाल  झांसेदार की बातों में विश्वास कर  हाथ पर हाथ रखकर बैठी है 

       उल्टे थानाधिकारी द्वारा बिना खाता नंबर के पीड़ितों को ये कहकर स्थानीय बड़ौदा बैंक भेजा गया की जाकर देखो कही पैसा आ तो नहीं गया? परेशान भोलेभाले पैसे मिलने की चाह में वहाँ भी गये 


      बड़ा सवाल? क्या बिना खाता नंबर के किसी की जमा राशि देखी जा सकती है।

No comments:

Post a Comment