हिमालय गुजर रहा है, मानवीय स्वार्थ के संकट से - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Thursday, September 10, 2020

हिमालय गुजर रहा है, मानवीय स्वार्थ के संकट से


रेवांचल टाइम्स डेस्क - हम भारतवासी जिस हिमालय पर नाज़ करते आ रहे हैं, उस पर आसन्न संकट से अब हमें  सावधान हो जाना चाहिए | हम अगर नहीं चेते तो भारत के साथ विश्व को भारी क्षति होने की सम्भावना से इंकार नहीं किया जा सकता | बेंगलुरु स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस के वैज्ञानिक अनिल वी कुलकर्णी का एक शोध पत्र हैं जिसमे कहा गया है कि हिमालय के ग्लेशियर जिस तेजी से पिघल रहे हैं, वह चिंतनीय है। हिमालय के ग्लेशियरों के पिघलाव की दर में 1948 के बाद  से अबतक अभूतपूर्व बढ़ोतरी दर्ज की गई है, वह खतरनाक संकेत है।
शोध पत्र में कहा गया है कि हिमालय के चंद्रा बेसिन के इन ग्लेश्यिरों के पिघलने की यही रफ्तार जारी रही, तो हमारी प्रमुख नदियों के सूखने का खतरा बढ़ जाएगा और नदियों के बिना इस भूभाग में मानव अस्तित्व की कल्पना बेमानी होगी। वैज्ञानिक कुलकर्णी का यह शोध पत्र “एनल्ज ऑफ ग्लेश्यिोलॉजी”  में प्रकाशित हुआ है| शोध पत्र में कहा गया है  कि “ग्लेश्यिरों का पिघलना इसी तरह जारी रहा, तो झेलम, चेनाब, व्यास, रावी, सतलुज, सिंधु, गंगा, यमुना, ब्रह्मपुत्र आदि नदियों का अस्तित्व मिट जाएगा। हिमालयी क्षेत्र की नदियों की जलधाराओं की क्षीण होती स्थिति इस चेतावनी की जीती-जागती मिसाल है।“ इस सारे क्षरण में मानवीय करतूतों की अहम भूमिका है|

         मानवीय जरूरतों का जलवायु परिवर्तन और तापमान वृद्धि में निरंतर हो रहे योगदान को नकारा नहीं जा सकता। ग्लेश्यिरों के पिघलने से हिमालयी क्षेत्र में मिलने वाली शंखपुष्पी, जटामासी, पृष्पवर्णी, गिलोय, सर्पगंधा, पुतली, अनीस, जंबू, उतीस, भोजपत्र, फर्न, गेली, तुमड़ी, वनपलास, कुनेर, टाकिल, पाम, तानसेन, अमार, गौंत, गेठी, चमखड़िक और विजासाल जैसी प्रजातियों और जीवों की चिरू जैसी असंख्य प्रजातियों के अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह लगता जा रहा  है। यदि हम अब भी नहीं जागे, तो असंख्य प्रजातियां इतिहास बन कर रह जाएंगी। यदि संयुक्त राष्ट्र के तथ्य पत्रों के तथ्यों को स्वीकार करें , तो अगले 100 वर्ष में 20 प्रतिशत हिमालयी जैव प्रजातियां सदा-सदा के लिए विलुप्त हो जाएंगी। वैज्ञानिक, पर्यावरणविद और समाज विज्ञानी  अब मानने लगे हैं कि हिमालय की सुरक्षा के लिए सरकार को उस क्षेत्र में जल, जंगल और जमीन को बचाने के लिए पर्वतीय क्षेत्र के विकास के वर्तमान मॉडल को बदलना होगा।इससे कम में अब गुजारा संभव नहीं है |

         हिमालय के हिमालयी संकट का प्रमुख कारण इस समूचे क्षेत्र में विकास के नाम पर अंधाधुंध बन रहे अनगिनत बांध, पर्यटन के नाम पर हिमालय को चीरकर बनाई जा रही ऑल वैदर रोड और उससे जुड़ी सड़कें हैं। हमारे नीति-नियंताओं ने कभी इसके दुष्परिणामों के बारे में सोचा तक नहीं, जबकि दुनिया के दूसरे देश अपने यहां से धीरे-धीरे बांधों की संख्या को को कम करते जा रहे हैं। सवाल यह है कि यदि यह सिलसिला इसी तरह जारी रहा, तो इस पूरे हिमालयी क्षेत्र का पर्यावरण कैसे बचेगा? देश की करीब 65 प्रतिशत आबादी का आधार हिमालय ही है। यदि हिमालय की पारिस्थितिकी प्रभावित होती है, तो देश प्रभावित हुए बिना नहीं रहेगा। इसीलिए सरकार को बांधों के विस्तार की नीति बदलनी होगी और पर्यटन के नाम पर पहाड़ों के विनाश को भी रोकना होगा। बांधों से नदियां तो सूखती ही हैं, इसके खतरों से निपटना भी आसान नहीं होता। यदि एक बार नदियां सूखने लगती हैं, तो फिर वे हमेशा के लिए खत्म हो जाएंगी। पहाड़ जो हमारी हरित संपदा और पारिस्थितिकी में अहम भूमिका निभाते हैं, अगर नहीं होंगे, तो हमारा वर्षा चक्र प्रभावित हुए बिना नहीं रहेगा। भारत जैसे देश में वर्षा चक्र का प्रभावित होना एक बड़ा संकट हे | हमारी सारी खेती और उससे जुड़ा जनजीवन खतरे में आ सकता है | इसका दुष्प्रभाव देश की आर्थिकी पर होगा इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता |

          देश की वर्तमान नीति अत्यधिक दोहन की है क्षेत्र कोई भी हो |वर्तमान  के अनुसार, नदी मात्र जल की बहती धारा है और पर्यटन आर्थिक लाभ का साधन। योजनाकारों ने हिमालय से निकलने वाली नदियों को बिजली पैदा करने का स्रोत मात्र  मान लिया है। मानवीय स्वार्थ हिमालय से भी बड़े हो गये है। स्वार्थी प्रवृत्ति ने ही हिमालय को खतरे में डाल दिया है। इसी सोच के चलते हिमालय के अंग-भंग होने का सिलसिला और उसकी तबाही जारी है। हमे यह नहीं भूलना चहिये कि यह पूरा क्षेत्र भूकंप के लिहाज से अति संवेदनशील है। यहां निर्माण, विस्फोट, सुरंग, सड़क का जाल बिछने से पहाड़ तो खंड-खंड होते ही हैं, वहां रहने वालों के घर भी तबाह होते हैं। समग्र समावेशी विकास नीति बनाए बिना हिमालय को बचाना मुश्किल है।
                                    राकेश दुबे

2 comments:

  1. 🙏🌷🌹🌹🌷🙏

    ✍🏿 *माला की तारीफ़ तो करते हैं सब , क्योंकि मोती सबको दिखाई देते हैं*

    *मैं! तारीफ़ उस धागे की करता हु , जिसने सब को जोड़ रखा है .*

    *आप से मधुर संबंध ही मेरा सबसे बडा धन है !*
    *उन संबंधो को नमन !*🙏
    *""सदा मुस्कुराते रहिये""*
    G@@D M@RN!NG

    ReplyDelete
  2. :::"पहली बार, चमत्कार, चमत्कार, चमत्कार":::
    🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
    इंडिया में हुई धमाकेदार सुरुआत🧐🤔

    ⭕बीमारियां अनेक दवाई एक⭕
    :::#रेनाटास_नोवा (#RENATUS_NOVA):::
    ⭕बीमारियां अनेक दवाई एक⭕
    :::रेनाटास नोवा(RENATUS NOVA):::
    ⭕बीमारियां अनेक दवाई एक⭕
    :::रेनाटास नोवा (RENATUS NOVA):::
    🧿🧿🧿🧿🧿🧿🧿🧿🧿🧿
    दोस्तों ये बिज़नेस के लिये product नही।
    ⭕#NO_1_PRODUCT बिज़नेस है।

    जी हां, बिल्कुल सही पढ़ा आपने। एक ऐसा चमत्कार जिस पर आपकी आंखें व कान विश्वाश नहीं करेंगें, लेकिन जादू व करिश्में, इसी दुनियां में होते हैं.!!!
    दोस्तो,
    _दुनिया के सबसे महान खोजकर्ता Dr. Nicolas perricone की, आज तक की ईलाज की, *दुनिया की सबसे बड़ी व महान खोज ने, पूरी दुनियां के सभी बड़े से बड़े Doctors को, हिला कर रख दिया है।
    आज से पहले ऐसा चमत्कार न कभी हुआ है और आगे भी शायद ही हो पाए।
    मेरे पास Dr. Nicolas perricone को सलाम करने के लिए कोई शब्द नहीं है, सिर्फ सैल्यूट ही कर सकता हूँ।
    आयुर्वेद जगत में, बेहद करिश्माई अविष्कार है।
    जब तक बाकि लोग इसको समझेंगे व अपनाएंगे, तब तक हम लोग इस अविष्कार को अपनाकर व जरूरतमंद लोगों की मदद करके, बाकि लोगों से कहीं आगे निकल चुके होंगे* और आप तो खुद नेटवर्कर हो, आपसे अच्छा इस बात को कौन समझेगा।_
    इस से पहले इतना जबरदस्त प्रोडक्ट, ना कभी देखा होगा, ना कभी सुना होगा और ना ही कभी सोचा होगा।
    _Dr. Nicolas perricone ने 6 साल की अपनी अथक खोज के बाद, दुनियां को दिया है..._
    उसको सिर्फ और सिर्फ Direct Selling/Networking से ही लोगों तक पहुँचाया जा सकता है।
    दुनिया के इतिहास में ये पहली बार होगा.!!!
    ये प्रोडक्ट, आपका सुनहरा भविष्य साबित होगा, ये मेरा आपसे वादा है।
    दोस्तो, ये प्रोडक्ट पुरी तरह से Patent है इसको कोई Copy नही कर सकता।

    :::रेनाटास नोवा(RENATUS NOVA):::
    _6 वर्षों के रिसर्च और 5 करोड़ की लागत के बाद नया आविष्कार।
    मानव शरीर की, "600+ बीमारियों " की एक दवा।
    👌हर प्रकार की बिमारी पर Results 15-20 दिन में दिखाई देगा

    💁#Heart::

    दिल की बीमारी मात्र 4-6 महीने में ठीक होगी और पूरे शरीर में कंही भी नाड़ियो में खून का थका (Blockage) जमा हो, #रेनाटास_नोवा से, ठीक हो जाता है(अगर #Renatus_Nova का रेगुलर युज किया तो रोगी, 4-6 महीने में 100% ठीक हो जाता है।)

    💁#Piles::

    #बवासीर(#खूनी_और_बादी): दोनो प्रकार की मात्र 3 महीने में 100% ठीक हो जाऐगी और अगर खून आ रहा है तो मात्र 15 दिन में खून बंद हो जाऐगा।
    💁#Joint_Pain::

    घुटनो की बिमारी और मासपेशियों में तकलीफ शरीर में कहीं भी किसी भी प्रकार की पीड़ा को सदैव के लिए जड़ से समाप्त करेगा...
    💁#Kidney_and_Gallbladder_Stone::
    गुर्दे व पित्ते की पथरी बिलकुल खत्म हो जाती है...
    💁#Asthma & Any Infection::

    (सांस लेने की दिक्कत) व किसी भी प्रकार की पुरानी से पुरानी एलर्जी, खुजली जो आँख, कान, नाक व पुरे शरीर पर कहीं भी हो मात्र 3 महीने दिन में ठीक होगी सदैव के लिए।
    💁#Sugar::

    कितना भी #पुराना_शुगर हो, #इंन्शुलिन_बनना_बंद हो गया हो, इंन्शुलिन बनना शुरु हो जाता है और शुगर हमेशा के लिए ठीक हो जाता है।
    💁#Blood_Pressure नार्मल हो जाता है, #थाइरॉइड का 100% सफल इलाज सदैव के लिए।
    👌कोई भी पुराने से पुराना जख्म व नया ताज़ा जख्म महीने में ठीक हो जाता है।
    👌कितनी भी #एसिडिटी क्यों न बनती हो। नींद न आती हो। भूख ठीक न लगती हो। सुबह ठीक से पेट साफ न हो पाते हो। सिर्फ 3-6 महीने में 100% ठीक।
    👍#मर्दाना_ताकत की अचूक गारंटी ।
    👍 #माता_बहनों की सभी तरह की बीमारियों का ज़िन्दगी भर के लिए सफल इलाज।
    👍 #कैंसर जैसी बीमारी में भी पूर्ण सहायक।
    💁और भी #अनेकों_बिमारियां जड़ सेे ठीक हो जाती हैं, जो आप सोच भी नहीं सकते......
    🤷‍♀किसी भी बीमारी से पीड़ित/परेशान, इसका प्रयोग करके देखें, तो कहेंगे-- यह जादू है या करिश्मा.!!!
    .
    🙋दुनिया का पहला एकमात्र Product जो केवल 3 महीने मे आपके Food, Water या Wine और हर प्रकार के खाने-पीने की चीजों से Toxin व जहर को हटाकर उसे 100% Organic बना देता है.!!!!!

    All over India Start...
    RENATUS WELLNESS PVT LTD
    Contact 8718998937
    9098821060

    👍🏻👍🏻🌹🌹👆🏻👌🏻👌🏻🌹🌹

    ReplyDelete