अवैध रेत उत्खनन, माफिया को नहीं किसी की परवाह,राजस्व का नुकसान - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Tuesday, 28 July 2020

अवैध रेत उत्खनन, माफिया को नहीं किसी की परवाह,राजस्व का नुकसान



रेवांचल टाइम्स,डिंडोरी, 28 जुलाई 2020, जगह जगह हो रहा है रेत का अवैध उत्खनन जिला मुख्यालय से महज कुछ ही दूरी पर रेत के माफिया लगातार नर्मदा की छाती को छलनी करने सक्रिय है। गरीब मजदूरों को जान का खतरा बना हुआ है लगातार हो रही बारिश के दौरान भी नर्मदा में माफियाओं के द्वारा रेत का उत्खनन अवैध तरीके से किया जा रहा है। जिससे राजस्व की भी हानि हो रही है मगर अब तक किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही होती नजर नहीं आ रही। जिससे रेत माफियाओं के हौसले बुलंद नजर आ रहे हैं।

गौरतलब है अगर इसी प्रकार नर्मदा की छाती को छलनी करते माफियाओ का कारोबार शासन को राजस्व की हानि होती है और इन माफियाओं के हौसले और बुलंद होते नजर आएंगे तो वही मजदूरों को बड़ी दुर्घटना जन हानि होने का भी खतरा बना हुआ है।

आज हमारे प्रतिनिधि ने उन इलाकों का दौरा किया तो वही डिंडोरी मुख्यालय से लगभग 25 किलोमीटर खरगहना से लगभग 4 किलोमीटर की दूरी पर कोडिया ग्राम पंचायत में रेत के माफियाओं द्वारा लगातार रोजाना 30 से 40 ट्रैक्टर नर्मदा पर उतारकर रेत का उत्खनन करते हैं, जिसपर ग्रामीणों ने भी विरोध जताया अगर अवैध रेत उत्खनन करते किसी मजदूर की जान चली जाती है तो इसका हर्जाना कौन देगा यह सवाल खड़ा होता है? इसी तरह और भी अन्य जगह है जहां माफियाओ के गुर्गे मुस्तैद हैं और अवैध रेत का सिलसिला अब तक जारी है।

No comments:

Post a comment