बीईओ कार्यालय में पदस्थ कर्मचारियों का नहीं हो रहा स्वार्थ सिद्ध - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Monday, 20 July 2020

बीईओ कार्यालय में पदस्थ कर्मचारियों का नहीं हो रहा स्वार्थ सिद्ध



षड़यंत्र रच बिछिया बीईओ की करवाई जा रही झूठी शिकायत

रेवांचल टाइम्स मंडला - आदिवासी बाहुल्य जिला मंडला होने का फायदा इस जिले में पदस्थ कुछ अधिकारी कर्मचारीयों के द्वारा अपना स्वार्थ सिद्ध ना होने के कारण एक ईमानदार कर्तव्यनिष्ठ बीईओ की झूठी शिकायत करवाई जा रही हैं।बता दें कि बिछिया बीईओ के विरुद्ध जिला पंचायत अध्यक्ष को की गई शिकायत एवं समाचार पत्रों में प्रकाशित खबर के आधार पर बीईओ एसके जाटव के ऊपर आरोप लगाए गए थे कि बीआरसी एलसी मेश्राम सेवानिवृत्त होने के उपरांत उनको पेंशन व पीपीओ का भुगतान नहीं किया जा रहा हैं व बीईओ एसके जाटव के द्वारा परेशान किया जा रहा हैं।

क्यों नहीं किया गया पेंशन का भुगतान,यह था मामला 

उल्लेखनीय हैं कि बीआरसी एलसी मेश्राम सेवानिवृत्त होने के उपरांत शासकीय आवास को रिक्त नहीं किया गया था,साथ ही शासकीय आवास का किराया 02 माह की राशि शेष रह गई थी,जिसकी रिकवरी करने के बाद ही शासन के नियमानुसार पेंशन व पीपीओ का भुगतान का आदेश जारी किया जाता हैं।उक्त कारणों के चलते सेवानिवृत्त होने के उपरांत श्री मेश्राम को मिलने वाले स्वत्वों का भुगतान नहीं किया गया था।सेवानिवृत्त बीआरसी एलसी मेश्राम के द्वारा बिना आधार के झूठी शिकायत 181 में दर्ज भी कराई गई थी।जबकि शिकायतकर्ता 24 जून को पूर्व बीईओ एवं वरिष्ठ अधिकारी मंडला के हस्ताक्षर सहित एक प्रमाण पत्र स्वयं उपस्थित होकर बिछिया बीईओ कार्यालय में प्रस्तुत किया गया था जिसमें उल्लेख था कि  श्री मेश्राम को शासकीय आवास आवंटित नहीं किया गया हैं।पूर्व अधिकारी व कर्मचारियों लापरवाही के चलते श्री मेश्राम को शासकीय आवास आवंटित करने का विभाग में कोई भी रिकॉर्ड नहीं था।और पूर्व बीईओ और वरिष्ठ अधिकारी के द्वारा सेवानिवृत्त होने उपरांत  लिख कर दिया गया था कि श्री मेश्राम को कोई भी शासकीय आवास आवंटित नहीं किया गया हैं।जबकि श्री मेश्राम के द्वारा 09 जुलाई को बीईओ कार्यालय बिछिया में स्वयं उपस्थित होकर एक अभ्यावेदन देकर उल्लेख किया गया था कि उनके द्वारा शासकीय आवास को रिक्त कर दिया गया हैं व 02 माह का शासकीय आवास का किराया वसूलने की सहमति भी दी गई। जिसके बाद बीईओ बिछिया के द्वारा आवास रिक्त होने का आवेदन प्राप्त होते ही दूसरे दिन 10 जुलाई को पेंशन व पीपीओ भुगतान करने की कार्यवाही के लिए पेंशन कार्यालय को शासकीय आवास रिक्तता प्रमाण पत्र भेज दिया गया।उक्त मामले को लेकर ही अनावश्यक रूप से विभाग के कुछ पूर्व में पदस्थ स्वार्थी अधिकारी कर्मचारियों के द्वारा लगातार बीईओ श्री जाटव के विरुद्ध में शिकवा शिकायत कर उनकी छवि खराब की जा रही हैैं।
कोरोना वायरस में नियम की उड़ाई जा रही धज्जियां

मिली जानकारी अनुसार पूर्व बिछिया बीईओ जो कि वर्तमान में कन्या शिक्षा परिसर पड़रिया के प्रभारी प्राचार्य के पद पर पदस्थ है।जिनके द्वारा आजाद अध्यापक  संघ के शिक्षकों को गुपचुप तरीके से बुलाकर कन्या शिक्षा परिसर भवन पड़रिया में एक सामूहिक बैठक लेकर वर्तमान बिछिया बीईओ के विरुद्ध एक प्रस्ताव पारित कर जिले से लेकर भोपाल स्तर तक झूठी व निराधार शिकायत करवाई जा रही हैं।जबकि मंडला जिले में कोरोना वायरस के मरीज बढ़ते ही जा रहे हैं और इस तरह की सामूहिक बैठक आहूत कर नियम की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

महीनों से नदारद रहते हैं कर्मचारी,और निकल रही थी तनख्वाह

बता दें कि बिछिया बीईओ कार्यालय में बीईओ एसके जाटव के पदस्थ होने के बाद ऐसे अधिकारी और कर्मचारियों का भंडाफोड़ हुआ हैं जो शायद ही किसी कार्यालय में ऐसा होता रहा होगा।उक्त कार्यालय में महीनों से रोकड़बही का संधारण नहीं किया गया था,ना ही बिल वाउचर,नस्थिया उपलब्ध पाई गई थी।साथ ही उक्त कार्यालय में पदस्थ कर्मचारियों के द्वारा महीनों से नदारद रहने के बाद उनकी तनख्वाह घर बैठे-बैठे भुगतान किए जा रहे थे और उपस्थित पंजी रजिस्टर निरंक पाए गए।उक्त सभी अनियमितताओं को लेकर बीईओ श्री जाटव के द्वारा संज्ञान में लेते हुए कार्यालय में पदस्थ कर्मचारियों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया।परंतु सम्बंधित कर्मचारियों के द्वारा कोई जवाब नहीं दिया गया, जिसके चलते श्री जाटव के द्वारा अपने वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया हैं।उक्त कार्यालय में पदस्थ कर्मचारियों के द्वारा पूर्व
बीईओ के साथ मिलकर षड़यंत्र रच झूठी शिकायत करवाई जा रही हैं। जिससे वर्तमान में पदस्थ बीईओ श्री जाटव को बिछिया से  भगाया जा सके,और बीईओ कार्यालय बिछिया में पूर्व के भ्रष्टाचार व अनियमितता को दबाया जा सकें।

पूर्व बीईओ के द्वारा प्रायोजित तरीके से करवाई जा रही शिकायत

श्री जाटव से जानकारी लेने पर बताया गया की बीईओ बिछिया का प्रभार सम्बंधी पूर्व बीईओ आतमजीत सिंह अहलूवालिया के द्वारा आज दिनांक तक ना सौंपने के कारण मेरे द्वारा वरिष्ठ कार्यालय को पूर्व में पत्राचार किया गया था,जिनके द्वारा कलेक्टर मंडला के हस्ताक्षर युक्त आतमजीत सिंह को कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया गया था। श्री जाटव ने आगे बताया कि मेरे पत्राचार से नाराज होकर बीते दिनांक 05 जून को आतमजीत सिंह के द्वारा मुझे धमकाते हुए बीईओ कार्यालय में उपस्थित होकर अभद्र व्यवहार किया गया था।दिनांक 07 जून को पुनः शासकीय प्रार्चाय ग्रुप में आजाद अध्यापक संघ के द्वारा गलत टिप्पणियां डाली गई थी।श्री जाटव द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को उक्त घटनाक्रम से अवगत कराने के कारण, आज दिनांक तक सारी शिकायतें पूर्व प्रायोजित तरीके से आतमजीत सिंह के द्वारा करवाई जा रही हैं।

इनका कहना

आपने जो भी जानकारी मुझसे ली मैंने आपको बता दिया,वही समाचार में लगा देना।पूर्व बीईओ द्वारा मेरी झूठी शिकायत करवाई जा रही हैं।मेरे पदस्थ होते ही जो भी अनियमितता मुझे दिखी, मैंने वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत करा दिया
                           एस.के.जाटव
                          बी.ई.ओ. बिछिया
                              जिला मंडला।
   रेवांचल टाइम्स से शिव दोहरे की रिपोर्ट

No comments:

Post a comment