भारतीय मजदूर संघ मध्यप्रदेश ने जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, June 7, 2020

भारतीय मजदूर संघ मध्यप्रदेश ने जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन

भारतीय मजदूर संघ मध्यप्रदेश ने विश्व पर्यावरण दिवस पर पर्यावरण संरक्षण को लेकर मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन (साथ ही स्थानीय समस्या से भी अवगत करवाया)


मण्डला :- 05 जून 2020 को मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी संघ के तत्वावधान में जिला आयुष जिलाध्यक्ष राधेलाल नरेटी के नेतृत्व में भारतीय मजदूर संघ ने पर्यावरण प्रदूषण को लेकर  मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन । आज भारत ही नहीं पूरा विश्व कोरोना वायरस से होने वाली बीमारी से जूझ रहा है, इस बीमारी के फैलाव को रोकने के लिए विश्व के अधिकांश देश लाँकडाऊन की स्थिति से भी गुजर रहा है । हमारे देश की भी यही स्थिति है, जिसे अब धीरे-धीरे खोला जा रहा है, इस दौरान अधिकांश उद्योग, सड़क परिवहन आदि सब बंद हैं । लाँकडाऊन के घोषणा पश्चात, पर्यावरण के प्रदूषण की स्थिति में अदभुत सुधार हुआ है, वातावरण, नदी नाला, का पानी सभी की शुद्धता में सुधार हुआ है । लाँकडाऊन के पहले स्थिति कुछ और थी एवं प्रदूषण से लोग परेशान थे । कुछ जगहों पर तो वायु प्रदूषण इसके मानक स्तर से बहुत ऊपर खतरनाक स्थिति में था, जो अभी काफी कम है, लाँकडाऊन के हटने के कुछ दिनों बाद पुनः प्रदूषण बढ़ने की संभावना है ।
         05 जून विश्व पर्यावरण दिवस के दिन ज्ञापन के माध्यम से संगठन मांग करता है कि जिलों में सभी माध्यमों से होने वाले प्रदूषणों पर विशेष ध्यान देते हुए इसके रोकथाम हेतु तत्काल उपाय किए जाए । साथ ही निम्न बिंदुओं पर ध्यान दिया जावें ।
◆ ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों के परिचालन पर ततकाल रोक लगाई जाए ।
◆ वायु प्रदूषण का मुख्य कारण उद्योग एवं सड़कों पर चलने वाले वाहन आदि है, अतः ऐसी व्यवस्था की जाये कि सड़कों पर वाहन कम चलें एवं उद्योगों से भी प्रदूषण कम हो जिससे वातावरण को प्रदूषित होने से बचाया जा सके ।
◆ वायु प्रदूषण के स्तर के मानकों को दर्शाने वाला इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले बोर्ड शहरों के प्रमुख जगहों पर लगवाया जाए ।
◆ अमानक एवं प्रतिबंधित प्लास्टिक के कैरी बेग के उपयोग पर पूर्णतः प्रतिबंध लगाई जाए ।
◆ नदी नालों एवं तालाबों के पानी को प्रदूषित होने से बचाने हेतु उचित उपाय किए जाए ।
◆ अनावश्यक पेड़ो की कटाई रोकी जाए साथ ही वृक्षारोपण पर जोर दिया जाए ।
◆ पर्यावरण प्रदूषण एवं संरक्षण के क्षेत्र में काम करने वाले व्यक्तियों एवं सामाजिक संस्थाओं को पुरस्कृत करते हुए उन्हें प्रोत्साहित किया जाए ।
◆ मण्डला जिला पर्यावरण प्रदूषण की दृष्टि से अभी तक काफी अच्छी स्थिति में है । इसे बनाए रखने के लिए यह आवश्यक है कि जिले में चल रही पर्यावरण प्रदूषण को हानि पहुंचाने वाली सभी गतिविधियों पर शक्ति से रोक लगाई जाए ।   
           साथ ही जिले के आयुष विभाग में व्याप्त अनियमितताओं के संबंध में भी एक ज्ञापन दिया। जिसमें जिला आयुष अधिकारी मण्डला म.प्र.डॉ.पी.डी.गुप्ता को जब से यहां पदस्थ किया गया है, तभी से वे अनैतिक गतिविधियों में संलग्न हैं । उनके द्वारा तानाशाही पूर्ण ढंग से मानमाने रवैया के साथ स्वेच्छाचसबसे पहले अकारण प्रभारियों कर्मचारियों की वार्षिक वेतन वृद्धियां रोकी, नियम विरुद्ध औषधालय केन्द्रों में छापामारी की और ताले तोड़े, मानमाने ढ़ग से अधिकारियों, कर्मचारियों का स्थानांतरण किया, कर्मचारी संघो को झूठा अश्वसन दिया, कर्मचारियों को अकारण नोटिस देना, कर्मचारियों की सी.आर. खराब करना, दुर्भावानापूर्ण तरीकें से वेतन काटना,आडिट दल के नाम पर अवैध वसूली करना,पैसे लेकर कर्मचारियों के मनमाने ढ़ंग से अटैच करना, कर्मचारियों के स्वत्वों के भुगतान के लिए पैसों की मांग करना, पेंशन प्रकरणों के लिए पैसों की मांग करना, कर्मचारियों की पुलिस थाने में झूठी शिकायत करना, ग्रामीण क्षेत्र के डाक्टरों को शहरी क्षेत्र में अटैच रखना, मुख्यालय से हमेशा अनुपस्थित रहना, शासन के निर्देशों का पालन न करना,कर्मचारी संघ के ज्ञापन एवं पत्रों पर कार्यवाही न करना,जन प्रतिनिधियों एवं उच्चाधिकारियों के निर्देशों की अवहेलना करना,कर्मचारियों के प्रकरणों को लंबित करके रखना, न्यायालय के आदेश का पालन न करना, संघ के अध्यक्ष का जिले से बाहर स्थानांतरित करना, लोकायुक्त पुलिस जबलपुर द्वारा रंगेहाथों रिश्वत लेते पकड़े जाने के बावजूद यही पर पदस्थ रहना,भ्रष्ट अधिकारियों एवं नेताओं से सांठगांठ करके शासन एवं कर्मचारी हितों को हानि पहुंचाना,महिला कर्मचारियों का उत्पीड़न करना,इसके पूर्व भी जहां जहां रहें हैं विवादास्पद रहें हैं  । संघ के अध्यक्ष को नियम विरुद्ध निलंबित रखना, इस दौरान गुजारा भत्ता भी न प्रदान करना आदि, ऐसे बहुत से कार्य हैं जो कि इनके द्वारा किए गए हैं और अभी भी किए जा रहे हैं । आदि समस्याओं के निराकरण की मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी संघ मांग करता है कि, इन्हें तत्काल पद से हटाकर इनके द्वारा किए गए नियम विरुद्ध कार्यों की जाँच की जावें । इस दौरान संगठन मंत्री प्रफुल्ल पटैल, भा.म.सं. जिलाध्यक्ष नोखेदास सोनवानी उपस्थित रहे ।


रेवांचल टाइम्स से राकेश पटेल अंजनियां की खबर

No comments:

Post a Comment