गर्भवती को सेवा विस्तार देने से इनकार, मां बनने का दंड देने के समान : दिल्ली हाईकोर्ट - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, May 10, 2020

गर्भवती को सेवा विस्तार देने से इनकार, मां बनने का दंड देने के समान : दिल्ली हाईकोर्ट

नई दिल्ली । दिल्ली हाईकोर्ट ने एक मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि किसी गर्भवती को नौकरी में सेवा विस्तार देने से इनकार करना उसे मां बनने का दंड देने के समान होगा। दिल्ली विश्वविद्यालय के एक कॉलेज के अंग्रेजी विभाग में 5 साल से कार्यरत महिला प्रोफेसर के मातृत्व अवकाश तथा अन्य लाभों की मांग करने पर कॉलेज ने उनकी नियुक्ति रद्द कर दी थी। इस मामले पर जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस आशा मेनन ने सहायक प्राध्यापक की अस्थायी नियुक्ति खत्म करने का फैसला रद्द करते हुए यह टिप्पणी की। साथ ही अदालत ने एकल न्यायाधीश के उस आदेश को भी रद्द कर दिया जिसमें अरबिंदो कॉलेज (सांध्यकालीन) के खिलाफ महिला की याचिका खारिज की थी। अदालत ने कॉलेज पर 50,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया। अदालत ने अधिकारियों को महिला को सहायक प्रोफेसर पद पर तब तक के लिए तुरंत अस्थायी नियुक्ति देने का निर्देश दिया जब तक कि रिक्त पद भरे नहीं जाते।

No comments:

Post a Comment