गर्मी शुरू होते ही बजाग अमरपुर सहित सभी ग्रामीण क्षेत्रों में गहराने लगा पानी का संकट - revanchal times new

revanchal times new

निष्पक्ष एवं सत्य का प्रवर्तक

Breaking

रेवांचल टाइम्स अखबार पाठकों से अनुरोध करता है कि आप अपने सुझाव हम तक जरूर भेजें.. ताकि आने वाले समय मे हम आपकी मदद से और भी बेहतर कार्य कर सकें... साथ ही यदि आपको लेख अच्छा लगे तो इसे ओरों तक भी पहुंचाए.. प्रकाशन हेतु ख़बरें, विज्ञप्ति मोबाइल- 9406771592 पर व्हाट्सएप्प करें

Sunday, May 10, 2020

गर्मी शुरू होते ही बजाग अमरपुर सहित सभी ग्रामीण क्षेत्रों में गहराने लगा पानी का संकट

गर्मी शुरू होते ही  बजाग अमरपुर सहित सभी ग्रामीण क्षेत्रों में गहराने लगा पानी का संकट 

वही ग्राम पंचायत विक्रमपुर बजाग में  लम्बे समय से बंद पड़ी पानी की टंकी

हेंड पंप उगल रहे हवा, पानी के लिए दिन-रात हलाकान हो रहे ग्रामीण




रेवांचल टाइम्स डिण्डोरी। गर्मी शुरू होते ही  जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में पानी के लिए त्राहि त्राहि मचना शुरू हो जाती है ,गर्मी के दिनों में वाटर लेवल कम कम होने के चलते अधिकतर ग्रामीण क्षेत्रों के हेड पंम्प हवा उगलने लगते हैं ,वहीं कई ग्रामीण क्षेत्रों में नल जल योजना कई समय से ठप पड़ी हुई है ,जिसको लेकर ग्रामीणों ने कई बार प्रदर्शन भी किया लेकिन उनकी समस्या कई लंबे समय से व्यस्त तस बनी हुई है ,वहीं ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम पंचायत के जिम्मेदार से जिले के  सम्बन्धित विभाग के अधिकारी सहित  कई लोगों से पानी की समस्या के बारे में कहा जा चुका है, लेकिन इस ओर किसी का ध्यान नहीं गया पिछले डेढ़ महीने से ग्राम विक्रमपुर के ग्रामीण पानी की समस्या से जूझ रहे हैं ,जिसमें ग्रामीणों का कहना है कि अधिकतर नल जल योजना बंद पड़ी हुई है ,वही  हैंड पंप भी शोपीस बनकर रह गए हैं, जो लगातार हवा उगल रहे हैं ,सो बार पंप करने के बाद कहीं जाकर एक घड़ा पानी निकल पाता है, पानी भरने के लिए महिला पुरुष सहित बच्चे दिनभर हेडपंप के चक्कर लगाते रहते हैं ,वही करोना संक्रमण के चलते पानी की समस्या बढ़ती जा रही है ,जिससे कई लोग भीड़ लगाकर हेडपंप में खड़े रहते हैं। वही जिले के विकासखण्डों के अधिकतर गावो में जलसंकट गहराने लगा है।



चारों ओर पानी की समस्या

वही वर्तमान में ग्रामीण क्षेत्रों में टोला मोहल्लों ,में पेयजल की गंभीर संकट आन पड़ा है वही हैंडपंप में जलस्तर कम हो गया है, पेयजल कूप में जलस्तर कम होने से आम नागरिकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है वहीं ग्रामीणों की माने तो ग्रामीण क्षेत्रों के जनप्रतिनिधियों को कई बार निवेदन किया लेकिन गांव के हर मोहल्ला में हेडपंप करवाया जाए ,लेकिन इस और मांग करने पर भी किसी के द्वारा ध्यान नहीं दिया गया जिसका खामियाजा ग्रामीणों को उठाना पड़ता है ऐसी भीषण गर्मी में कई किलोमीटर पैदल सफर करके ग्रामीण  या तो कुओ से पानी भरते हैं या नदी से अपनी प्यास बुझाते हैं ,वही ऐसी स्थिति में मवेशियों पर सबसे ज्यादा परेशानी आन पड़ती है जब सारे जलस्तर सूख जाते हैं तो पानी के लिए बेचैनी इंसान के साथ साथ ही मवेशियों को भी उठानी पड़ती है।

अमरपुर के अधिकतर गांव में है जल संकट

वही अमरपुर के अधिकतर गांवों में हालात बदतर हो गए हैं ,जहां कुओं में  पानी कम बचा है, वही हैंडपंप भी हवा हवा उगलना शुरू कर दिए हैं लखनपुर, बानो ,कोको भानपुर, निघोरी ,मूर्ता, मोहारी ,खितौली, बीजा, अंधियारखोर ,जुनवानी, देवरी, खमरिया, जले गांव खितगांव ,आदि जगह पर जल स्त्रोत लगभग सूख गए हैं वहीं ग्रामीणों ने बताया कि लखनपुर में चार हेडपंप है, जिसमें से एक ही चालू अवस्था में है बाकी तीन हवा उगल रहे हैं यहां की आबादी 8 टोला मिलाकर 650 है, जहां पर लोग एक ही हेडपंप के भरोसे हैं वही गांव में जो कुआ है उसमें भी जलस्तर बहुत कम हो चुका है वहीं 1 से 2 गगरा अधिक से अधिक  पानी मिल पाता है ,वही यहां से नदी की दूरी डेढ़ से 2 किलोमीटर है ,जो पहाड़ के नीचे है वहां जाना इतनी गर्मी में कम ही संभव है इसलिए अमरपुर के ज्यादातर गांवों में पानी की बहुत अधिक समस्या से ग्रामीण जूझ रहे हैं।

जल स्रोत सूखने से जानवर भी हो रहे परेशान

वही अमरपुर के गावो में जल संकट के कारण इतनी भीषण गर्मी में जल स्रोत सूखने के कारण जानवरों की प्यास नहीं बुझ रही है, वहीं तालाबों में और दूसरे जल स्त्रोतों के सूखने के चलते जानवर भी बेहाल है अभी शुरुआती गर्मी में इस तरह की समस्या है तो आने वाले समय में पढ़ने वाली गर्मी में जानवरी की प्यास कैसे बूझ पाएगी।
लंबे समय से बनी है पानी की समस्या जिम्मेदारों का नहीं है इस ओर ध्यान

हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी पानी की समस्याओं को लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार लोग परेशान हो रहे हैं वहीं गर्मी शुरू होते से ही जिला प्रशासन के द्वारा पीएचई विभाग को ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की समस्या से निजात पाने के लिए हेडपंप सुधार हेतु वही नल जल योजनाओं को सुचारू रूप से चालू करने के निर्देश भी जिला कलेक्टर द्वारा दिए गए थे, लेकिन विभाग के जिम्मेदारों ने इस ओर ध्यान देना उचित नहीं समझा वही आज भी कई गांव में हेड पंप हवा उगल रहे हैं जिसका खामियाजा गर्मी में ग्रामीणों को उठाना पड़ रहा है वही ग्राम पंचायत के जिम्मेदार भी इस ओर ध्यान नहीं देते जिससे ग्रामीणों में आक्रोश भी है।
इनके अनुसार
1. हमारे यहां सब नल बंद पड़े हुए हैं हेडपंप भी सो बार चलाने के बाद 12 घड़ा पानी निकलता है सरपंच सचिव भी कुछ ध्यान नहीं देते हैं  ऐसे में पूरा गांव पानी की समस्या से जूझ रहा है।

सुंदरलाल सोनी ग्रामीण
ग्राम पंचायत विक्रमपुर बजाग

2. हमारे गांव में 3 टोला मिलाकर 1100 जनसंख्या  है,जिसमे 2 हैंडपंप है,जो  अभी काम नहीं कर रहे हैं ।कुँए भी बहुत दूर दूर है ,गर्मी में पानी की बहुत ज्यादा दिक्कत होती है जलस्तर कम होने से ग्रामीण गर्मी में बहुत परेशान होते है।

कमलेश धुर्वे
ग्रामीण खितौली

3. लखनपुर में 4 हेड पंप है, एक चालू है तीन हवा उगल रहे हैं यहां पर 650 लोगों में  1हेंड पम्प काम कर रहा है, वही कुआं है जिससे पूर्ति नहीं हो पाती अधिकतर जल स्त्रोत सूख गए हैं ,नदी यहां से एक से डेढ़ किलोमीटर दूर है जिससे पानी लाने एक से डेढ़ किलोमीटर जाना पड़ता है।
रमेश कुमार कश्यप
सामाजिक कार्यकर्ता लखनपुर

4. आपके द्वारा जानकारी लगी है इन गांव में जहां पानी की अधिक दिक्कत है वहां पर फील्ड मैनेजर को पहुंचा कर हेडपंप सुधार कार्य करवा दिया जाएगा। वहीं विभाग की तरफ से जो हेल्पलाइन नंबर जारी हुए हैं उनसे संपर्क करके  पानी से जुड़ी समस्या की जानकारी विभाग तक पहुंचाई जा सकती हैं।
            रवि डेहरिया
           .ई पीएचई डिण्डोर
डिंडोरी रेवांचल टाइम्स से अविनाश टांडिया की रिपोर्ट

No comments:

Post a Comment